सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

गीता के काव्य अनुवाद का कुछ अंश


गीता काव्य-पीयूष - (श्रीमद्भगवद्गीता हिन्दी भाषा-काव्यानुवाद से उद्धृत)

स्वतः प्राप्त हे पार्थ ! खुले यह, स्वर्ग-द्वार के जैसा।
भाग्यवान क्षत्री ही करते, युद्ध प्राप्त हैं ऐसा।।
नष्ट हुए कुल-धर्म मनुज का, वास अनिश्चित पल तक।
हे जनार्दन! सुना गया है, सदा नर्क में अब तक।।१/४४।।

इस देही को शैशव , यौवन , जरा यथा है आता।
है अन्य देह भी वैसे, मोहित, विज्ञ नही हो जाता।।२/१३।।

विज्ञ-अरि इस तृप्ति-हीन,इस काम-अनल के द्वारा।
हे कौन्तेय ! सब ज्ञान मनुज का, ढका हुआ है सारा।।३/३९।।

अधर्म - वृद्दि और नाश धर्मं का , जब-जब भारत होता।
स्वयं जन्म मैं इस धरती पर, तब-तब आकर लेता।।४/७।।

करने दुष्टों का नाश और , भक्तो की रक्षा हित में।
युग-युग में लेता जन्म, धर्म को करने स्थापित मैं।।४/८।।

ब्रह्म-समर्पित कर कर्मों को, संग-रहित करता जो।
जल से पद्य्न-पत्र-सम अघ में, लिप्त नहीं होता वो।।५/१०।।

चंचल, प्रमथनशील और, अत्यंत बलि ये मन है।
वायु-सम ही इसे रोकना, मधुसूदन ! अति कठिन है।।६/३४।।

चार तरह के पूत मनुज हैं, करते मेरा अर्चन।
हे भरत ! आर्त-जिज्ञासु-अर्थी, और महाज्ञानी जन।।७/१६।।

जिस समय प्राप्त होते मृत योगी, अनावृति- आवृति को।
कहता हूँ अर्जुन भरत श्रेष्ठ !, तुझ से उस काल-गति को।।८/२३।।

गतियुक्त बली सर्वत्र पवन ये, ज्यों स्थित है नभ में ।
उसी तरह तू समझ भूत ये, सारे स्थित मुझ में।।९/६।।

हूँ आदि-अंत -मध्य में स्थित, मैं , गुडाकेश ! भूतो के।
हूँ मैं ही स्थित जीव सभी के, अन्तर में जीवो के।।१०/२०।।

मेरे हेतु कर्म-युक्त, मत्परम-भक्त मेरा अर्जुन जो।
अनासक्त, निर्वैर, पाण्डव !, है होता प्राप्त मुझे वो।। ११/५५।।

न स्थिर रख सकता मुझ में, तू यदि धनञ्जय मन को।
कर प्रयत्न अभ्यास योग से, तू पाने का मुझ को।।१२/९।।

वह ज्योतियों की ज्योति, तमस से परे कहा है जाता।।
ज्ञान, गेय, ज्ञानगम्य उरो में, है सबके वो रहता।।१३/१७।।

प्रकृति-सम्भव, सत्व-रजो-तम, हे अर्जुन त्रिगुण ये ही।
बाँध देह में देते ये हैं, ये अविनाशी देही।।१४/५।।

होता ज्ञान उत्पन्न सत्व से, होता लोभ रजस से।
अज्ञान, मोह, प्रमाद पनपते, अर्जुन अरे तमस से।।१४/१७।।

करता प्रकाशित तेज सूर्य-गत, जो इस पूर्ण जगत को।
चंद्र-अनल में तेज व्याप्त जो, जान मेरा ही उसको।।१५/१२।।

काम-क्रोध और लोभ तीन ये, अर्जुन ! द्वार नरक के।
ये तीनो ही त्याज्य अतः हैं, कारक आत्म-पतन के।।१६/२१।।

रहना स्थित तप-दान-यज्ञ में, सत ही है कहलाता।
उस से सम्प्रक्त पार्थ ! कर्म भी, सत ही कहा है जाता।।१७/२७।।

सम्पूर्ण भूत के उर में अर्जुन !, रहता स्थित ईश्वर।
निज माया से उन्हें घुमाता, बैठा तन-यंत्रो पर।।१८/६१।।

योगेश कृष्ण ‘औ’पार्थ धनुर्धर, हैं विद्यमान जहाँ पर।
है मेरे मत से अचल क्षेम , श्री-नीति - विजय वहां पर।। १८/७८।।

(अनुवादक ---मेरे पिता श्री देवेन्द्र सिंह त्यागी )









टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुरान और गैर मुस्लमान

इस लेख को लिखने से मेरा किसी भी धर्म का विरोध करने का कोई उद्देश्य नही है। अपितु य ह लेख इस्लाम के प्रचार के लि ए है । कुरान मुसलमानों का मजहबी ग्रन्थ है.मुसलमानों के आलावा इसका ज्ञान गैर मुस्लिमों को भी होना आवश्यक है। ............................................................. मानव एकता और भाईचारे के विपरीत कुरान का मूल तत्व और लक्ष्य इस्लामी एकता व इस्लामी भाईचारा है. गैर मुसलमानों के साथ मित्रता रखना कुरान में मना है. कुरान मुसलमानों को दूसरे धर्मो के विरूद्ध शत्रुता रखने का निर्देश देती है । कुरान के अनुसार जब कभी जिहाद हो ,तब गैर मुस्लिमों को देखते ही मार डालना चाहिए। कुरान में मुसलमानों को केवल मुसलमानों से मित्रता करने का आदेश है। सुरा ३ की आयत ११८ में लिखा है कि, "अपने (मजहब) के लोगो के अतिरिक्त किन्ही भी लोगो से मित्रता मत करो। " लगभग यही बात सुरा ३ कि आयत २७ में भी कही गई है, "इमां वाले मुसलमानों को छोड़कर किसी भी काफिर से मित्रता न करे। " सन १९८४ में हिंदू महासभा के दो कार्यकर्ताओं ने कुरान की २४ आयातों का एक पत्रक छपवाया । उस पत्रक को छपवाने

सनातन धर्म का रक्षक महान सम्राट पुष्यमित्र शुंग

मोर्य वंश के महान सम्राट चन्द्रगुप्त के पोत्र महान अशोक (?) ने कलिंग युद्ध के पश्चात् बौद्ध धर्म अपना लिया। अशोक अगर राजपाठ छोड़कर बौद्ध भिक्षु बनकर धर्म प्रचार में लगता तब वह वास्तव में महान होता । परन्तु अशोक ने एक बौध सम्राट के रूप में लग भाग २० वर्ष तक शासन किया। अहिंसा का पथ अपनाते हुए उसने पूरे शासन तंत्र को बौद्ध धर्म के प्रचार व प्रसार में लगा दिया। अत्यधिक अहिंसा के प्रसार से भारत की वीर भूमि बौद्ध भिक्षुओ व बौद्ध मठों का गढ़ बन गई थी। उससे भी आगे जब मोर्य वंश का नौवा अन्तिम सम्राट व्रहद्रथ मगध की गद्दी पर बैठा ,तब उस समय तक आज का अफगानिस्तान, पंजाब व लगभग पूरा उत्तरी भारत बौद्ध बन चुका था । जब सिकंदर व सैल्युकस जैसे वीर भारत के वीरों से अपना मान मर्दन करा चुके थे, तब उसके लगभग ९० वर्ष पश्चात् जब भारत से बौद्ध धर्म की अहिंसात्मक निति के कारण वीर वृत्ति का लगभग ह्रास हो चुका था, ग्रीकों ने सिन्धु नदी को पार करने का साहस दिखा दिया। सम्राट व्रहद्रथ के शासनकाल में ग्रीक शासक मिनिंदर जिसको बौद्ध साहित्य में मिलिंद कहा गया है ,ने भारत वर्ष पर आक्रमण की योजना बनाई। मिनिंदर ने सबसे प

ये है झांसी की रानी (jhansi ki rani)का असली चित्र.

मित्रो आज १७ जून को झाँसी की रानी लक्ष्मी बाई की पुन्यथिति है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का यह एकमात्र फोटो है, जिसे कोलकाता में रहने वाले अंग्रेज फोटोग्राफर जॉनस्टोन एंड हॉटमैन द्वारा 1850 में ही खींचा गया था। यह फोटो अहमदाबाद निवासी चित्रकार अमित अंबालाल के संग्रह में मौजूद है। The only photo of Rani Laxmibai of Jhansi, which living in Calcutta in 1850 by the British photographer Ahugoman Jonstone and was pulled. This photo Ahmedabad resident artist Amit Ambalal exists in the collection.