सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

पिछली एक सदी में इस्लाम का सबसे बड़ा बुद्धिजीवी अल्लामा इकबाल

इस्लाम में पिछली सदी में एक महानायक पैदा हुआ अल्लामा इक़बाल। सारे जहाँ से अच्छा लिखने वाले इस शायर को निसंदेह २० वीं सदी का इस्लाम का सबसे बड़ा बुद्धिजीवी व शुभ चिन्तक माना गया है। आजादी के बाद भी इस शायर को हमारे देश भारत के बुद्धिजीवी व धर्म निर्पेक्ष इस शायर की प्रसंशा करते नही अघाते।
सन १९०९ में इसी शायर ने शिकवा नाम से एक पुस्तक की रचना की और ४ वर्ष बाद इसी की पूरक एक और जवाब ऐ शिकवा की रचना की। इन पुस्तकों में इकबाल ने अल्लाह से कुछ मामूली सी शिकायत की है। इस्लाम के इस बुद्धिजीवी ने अल्लाह से शिकायत की है कि

"सारी दुनिया में हम मुसलमानों ने तुम्हारे नाम पर ही सब कुछ किया। तमाम काफिरों , दूसरे धर्मो को मानने वालो को ख़त्म कर दिया,उनकी मुर्तिया तोडी,उनकी पूरी सभ्यताये उजाड़ डाली। केवल इसलिए की वे सब तुम्हारी सत्ता को माने ,इस्लाम को कबूलें। मगर ऐ अल्लाह, तेरे लिए इतना कुछ करने वाले मुसलमानों को तूने क्या दिया? कुछ भी तो नही। उल्टे दुनिया के काफिर मजे से रह रहे है। उन्हें हूरे व नियामाते यहीं धरती पर मिल रही है, जबकि मुसलमान दुखी है। अब काफिर इस्लाम को बीते ज़माने की बात समझते है। "

इस शायर की अल्लाह से इस शिकायत पर भारत के मुस्लिम बुद्धिजीवी व हिंदू सेकुलर नेता क्या कहना चाहेंगे ? क्यो कि शिकवा को समझने के लिए अलग से बुद्धि लगाने कि आवश्यकता नही है।
भारत का एक महान लेखक खूसट खुशवंत सिंह ने तो इकबाल कि इस रचना का अंग्रेजी अनुवाद किया है और इस रचना की तारीफ़ में कसीदें पड़े है।
इस्लाम को भाईचारे का व प्रेम का संदेश देने वाला बताने वाले इस्लाम के इस बुद्धिजीवी की इस रचना को जरूर पढ़े,और समझें कि इसके लिए इस्लाम कि वो शिक्षा ही जिम्मेदार है जो इकबाल जैसे लोगो को कुरान व हादीसों से प्राप्त होती है।

टिप्पणियाँ

  1. aapki aadhi-adhuri jankari k liye kahna chahunga adhjal gagri chhalkat jaye. kripya Iqbal ka Jawab Shikwa padhe.aapki budhimata me kuchh vistar ho jayega. Rashtriya Swayam Sevak Sangh ke Mendhko ko parochial kue se bahar aana chahiye jo mushkil to hai par asambhav nahi. dhanyvad.

    जवाब देंहटाएं
  2. drsbharti ji सबसे अच्छा तरीका है अपनी झेप उतारने का या किसी बात को निष्पक्षता और गंभीरता से न लेकर बिना तर्क के बात को अनसुना करने का दिखावा करने का.

    जवाब देंहटाएं
  3. गुमनाम भाईसाब जी !! आप ही उन पुस्तकों का अध्यन करके लोगो तक अपने विचार पहुचाएं. जब तक आप कुछ उस पुस्तक के तथ्यों को प्रस्तुत करके अपना मंतव्य और तर्क नहीं रखते तब तक आपकी बातों को कोई गंभीरता से नहीं लेगा और आपकी बात को कोई सत्य नहीं मानेगा. ये बाल बुद्दी का प्रलाप है बिना तर्क के अपनी बातों को मनवाना और किसी पर बिना मतलब लांछन लगाना ये मत समझना मैं राष्ट्रिय स्वयं सेवक संघ का सदस्य हूँ किन्तु उनके राष्ट्रवादी और उन्नति के लिए किये गए कार्य से सभी परिचित हैं यदि उनका कोई गलत कार्य या देश विरोधी कार्य आपको पता है तो बताइए. ऐसे किसी पर आप लांछन लगाकर अपने को सत्य सिद्ध नहीं कर सकते. ईश्वर आपको सत्बुद्धि दे !

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुरान और गैर मुस्लमान

इस लेख को लिखने से मेरा किसी भी धर्म का विरोध करने का कोई उद्देश्य नही है। अपितु य ह लेख इस्लाम के प्रचार के लि ए है । कुरान मुसलमानों का मजहबी ग्रन्थ है.मुसलमानों के आलावा इसका ज्ञान गैर मुस्लिमों को भी होना आवश्यक है। ............................................................. मानव एकता और भाईचारे के विपरीत कुरान का मूल तत्व और लक्ष्य इस्लामी एकता व इस्लामी भाईचारा है. गैर मुसलमानों के साथ मित्रता रखना कुरान में मना है. कुरान मुसलमानों को दूसरे धर्मो के विरूद्ध शत्रुता रखने का निर्देश देती है । कुरान के अनुसार जब कभी जिहाद हो ,तब गैर मुस्लिमों को देखते ही मार डालना चाहिए। कुरान में मुसलमानों को केवल मुसलमानों से मित्रता करने का आदेश है। सुरा ३ की आयत ११८ में लिखा है कि, "अपने (मजहब) के लोगो के अतिरिक्त किन्ही भी लोगो से मित्रता मत करो। " लगभग यही बात सुरा ३ कि आयत २७ में भी कही गई है, "इमां वाले मुसलमानों को छोड़कर किसी भी काफिर से मित्रता न करे। " सन १९८४ में हिंदू महासभा के दो कार्यकर्ताओं ने कुरान की २४ आयातों का एक पत्रक छपवाया । उस पत्रक को छपवाने

सनातन धर्म का रक्षक महान सम्राट पुष्यमित्र शुंग

मोर्य वंश के महान सम्राट चन्द्रगुप्त के पोत्र महान अशोक (?) ने कलिंग युद्ध के पश्चात् बौद्ध धर्म अपना लिया। अशोक अगर राजपाठ छोड़कर बौद्ध भिक्षु बनकर धर्म प्रचार में लगता तब वह वास्तव में महान होता । परन्तु अशोक ने एक बौध सम्राट के रूप में लग भाग २० वर्ष तक शासन किया। अहिंसा का पथ अपनाते हुए उसने पूरे शासन तंत्र को बौद्ध धर्म के प्रचार व प्रसार में लगा दिया। अत्यधिक अहिंसा के प्रसार से भारत की वीर भूमि बौद्ध भिक्षुओ व बौद्ध मठों का गढ़ बन गई थी। उससे भी आगे जब मोर्य वंश का नौवा अन्तिम सम्राट व्रहद्रथ मगध की गद्दी पर बैठा ,तब उस समय तक आज का अफगानिस्तान, पंजाब व लगभग पूरा उत्तरी भारत बौद्ध बन चुका था । जब सिकंदर व सैल्युकस जैसे वीर भारत के वीरों से अपना मान मर्दन करा चुके थे, तब उसके लगभग ९० वर्ष पश्चात् जब भारत से बौद्ध धर्म की अहिंसात्मक निति के कारण वीर वृत्ति का लगभग ह्रास हो चुका था, ग्रीकों ने सिन्धु नदी को पार करने का साहस दिखा दिया। सम्राट व्रहद्रथ के शासनकाल में ग्रीक शासक मिनिंदर जिसको बौद्ध साहित्य में मिलिंद कहा गया है ,ने भारत वर्ष पर आक्रमण की योजना बनाई। मिनिंदर ने सबसे प

ये है झांसी की रानी (jhansi ki rani)का असली चित्र.

मित्रो आज १७ जून को झाँसी की रानी लक्ष्मी बाई की पुन्यथिति है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का यह एकमात्र फोटो है, जिसे कोलकाता में रहने वाले अंग्रेज फोटोग्राफर जॉनस्टोन एंड हॉटमैन द्वारा 1850 में ही खींचा गया था। यह फोटो अहमदाबाद निवासी चित्रकार अमित अंबालाल के संग्रह में मौजूद है। The only photo of Rani Laxmibai of Jhansi, which living in Calcutta in 1850 by the British photographer Ahugoman Jonstone and was pulled. This photo Ahmedabad resident artist Amit Ambalal exists in the collection.