सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

अमेरिका भारत की धार्मिक नीतियों के बारे में बोलना बंद करे.

अब भारत सरकार की धार्मिक निति क्या हो और उसे पूरे देश में किस प्रकार लागू किया जाय ?इसकी चिंता अमेरिका सरकार को सताने लगी है। इस्लामिक देशों की अपने अपने देश में अल्पसंख्यकों के प्रति क्या निति है किस प्रकार सरेआम वहां अल्पसंख्यकों को मोत के घाट उतारा जा रहा है, किस प्रकार मानवाधिकारों की वहां धज्जियाँ उडाई जा रही हैं,यह सब देख सुनकर भी अमेरिका किसी भी छोटे मोटे इस्लामिक देश के विरूद्ध एक भी शब्द बोलने का साहस नही कर पाता। चीन की किसी भी घरेलू निति के बारे में बोलने में जिस अमेरिका की रूह कापती है,आस्ट्रेलिया में हो रहे भारतीय समाज पर हमलों के बारे में जिसने एक शब्द भी नही बोला है,वह आज भारत की धार्मिक निति पर खुले आम बयानबाजी कर रहा है तथा एक रिपोर्ट तैयार कराई है।
जी हाँ ,अभी हाल ही में अमेरिका के लोकतंत्र ,मानवाधिकार और श्रम मामलों के सहायक मंत्री माइकल एच पोजर ने भारत की केन्द्र सरकार की धार्मिक निति पर बोलते हुए कहा है की ,"प्रश्न यह है कि भारत की केन्द्र सरकार की निति को स्थानीय स्तर पर किस प्रकार लागू किया जाय। "
अमेरिका ने इस मामले में जो रिपोर्ट तैयार की है,उसमे कांग्रेस सरकार की धार्मिक निति (भारत का इसाई करण)
की प्रशंसा की है,तथा भाजपा की नीतियों की आलोचना की है। रिपोर्ट में कहा गया है कि,"कुछ प्रदेशों में इस धार्मिक स्वतंत्रता को धर्मांतरण विरोधी क़ानून बनाकर या क़ानून में संशोधन करके इसे सीमित कर दिया है,और वहां पर अल्पसंख्यक लोगो पर आक्रमण करने वाले लोगो के विरूद्ध कोई भी प्रभावी कार्यवाही नही की गई है।" रिपोर्ट में वरुण गाँधी के भाषण का भी जिक्र किया गया है।
इस बात को अगर पूरी गहराई से परखा जाय,तो स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ता है कि किस प्रकार अमेरिका भारत को एक इसाई देश बनाने की सुनियोजित षड़यंत्र रच रहा है।
कभी राजग सरकार के साथ गलबहियां करने वाला अमेरिका किस प्रकार एक विदेशी इसाई महिला के हाथ में सत्ता की चाबी आते ही किस षड़यंत्र में लग गया है, यह रिपोर्ट साफ़ बताती है।

टिप्पणियाँ

  1. आज भारत की ये हालत है कि कोई भी छोटा सा देश इसको धमकी दे देता है जैसे कि बांग्लादेश, मलेशिया आदि, कोई भी इसको राजनीतिक या धार्मिक शिक्षा देता है जैसे कि यु. एस, ब्रिटेन आदि कोई भी उसकी धरती पर अधिकार जताता है जैसे कि चाइना, पाकिस्तान आदि. इनके अलावा अब तो लाखो तथ्य हैं जो राष्ट्रविरोधी हैं. इस देश का बेड़ागर्क हो चुका है अब इसे हजार चाणक्य, दयानंद सरस्वती आदि संत भी आकर इसको बचा नहीं सकते. हिन्दू जनता का दिमाग एक ही ढर्रे "विनाशकाले विपरीत बुद्धि " पर कार्य कर रहा है. उन्हें सेकुलरता की घुट्टी इतनी घोट-घोट के पिलाई गयी है वो अंधे, बहरे और गूंगे हो चुके हैं. चंद लोग आपस में तरक्की करके कहते नहीं थकते देश तरक्की कर रहा है. एक तो भीड़ इतनी हो चुकी हैं इस देश में आदमी के ऊपर आदमी चढा है ऊपर से भयंकर गरीबी तो कोई भी २ रोटी देकर उसका धर्म, ईमान सब बदल सकता है. और इस बात को पूरी दुनिया जानती है इसीलिए सभी मजहबों, देशो का सबसे आसान निशाना है.

    जवाब देंहटाएं
  2. ये सब नेहरु कांग्रेस की देंन है ,मैकाले आज भारत में सफल हो गया है |लेकिन हम मैकाले की सोच को बोम्ब से उड़ा देंगे |

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Sir koi upay batayiye... In Mullins aur cristn ko apane desh se nikal bhagaye...

      हटाएं
  3. ये जो लेख आपने लिखा है जो एकदम सही है , लेकिन हमारे नेता अगर ठीक होते तो कोई भी देश हमारी और नजर नहीं उठा सकते , और मेकाले मरने के बाद भी से भारत में है

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुरान और गैर मुस्लमान

इस लेख को लिखने से मेरा किसी भी धर्म का विरोध करने का कोई उद्देश्य नही है। अपितु य ह लेख इस्लाम के प्रचार के लि ए है । कुरान मुसलमानों का मजहबी ग्रन्थ है.मुसलमानों के आलावा इसका ज्ञान गैर मुस्लिमों को भी होना आवश्यक है। ............................................................. मानव एकता और भाईचारे के विपरीत कुरान का मूल तत्व और लक्ष्य इस्लामी एकता व इस्लामी भाईचारा है. गैर मुसलमानों के साथ मित्रता रखना कुरान में मना है. कुरान मुसलमानों को दूसरे धर्मो के विरूद्ध शत्रुता रखने का निर्देश देती है । कुरान के अनुसार जब कभी जिहाद हो ,तब गैर मुस्लिमों को देखते ही मार डालना चाहिए। कुरान में मुसलमानों को केवल मुसलमानों से मित्रता करने का आदेश है। सुरा ३ की आयत ११८ में लिखा है कि, "अपने (मजहब) के लोगो के अतिरिक्त किन्ही भी लोगो से मित्रता मत करो। " लगभग यही बात सुरा ३ कि आयत २७ में भी कही गई है, "इमां वाले मुसलमानों को छोड़कर किसी भी काफिर से मित्रता न करे। " सन १९८४ में हिंदू महासभा के दो कार्यकर्ताओं ने कुरान की २४ आयातों का एक पत्रक छपवाया । उस पत्रक को छपवाने

सनातन धर्म का रक्षक महान सम्राट पुष्यमित्र शुंग

मोर्य वंश के महान सम्राट चन्द्रगुप्त के पोत्र महान अशोक (?) ने कलिंग युद्ध के पश्चात् बौद्ध धर्म अपना लिया। अशोक अगर राजपाठ छोड़कर बौद्ध भिक्षु बनकर धर्म प्रचार में लगता तब वह वास्तव में महान होता । परन्तु अशोक ने एक बौध सम्राट के रूप में लग भाग २० वर्ष तक शासन किया। अहिंसा का पथ अपनाते हुए उसने पूरे शासन तंत्र को बौद्ध धर्म के प्रचार व प्रसार में लगा दिया। अत्यधिक अहिंसा के प्रसार से भारत की वीर भूमि बौद्ध भिक्षुओ व बौद्ध मठों का गढ़ बन गई थी। उससे भी आगे जब मोर्य वंश का नौवा अन्तिम सम्राट व्रहद्रथ मगध की गद्दी पर बैठा ,तब उस समय तक आज का अफगानिस्तान, पंजाब व लगभग पूरा उत्तरी भारत बौद्ध बन चुका था । जब सिकंदर व सैल्युकस जैसे वीर भारत के वीरों से अपना मान मर्दन करा चुके थे, तब उसके लगभग ९० वर्ष पश्चात् जब भारत से बौद्ध धर्म की अहिंसात्मक निति के कारण वीर वृत्ति का लगभग ह्रास हो चुका था, ग्रीकों ने सिन्धु नदी को पार करने का साहस दिखा दिया। सम्राट व्रहद्रथ के शासनकाल में ग्रीक शासक मिनिंदर जिसको बौद्ध साहित्य में मिलिंद कहा गया है ,ने भारत वर्ष पर आक्रमण की योजना बनाई। मिनिंदर ने सबसे प

ये है झांसी की रानी (jhansi ki rani)का असली चित्र.

मित्रो आज १७ जून को झाँसी की रानी लक्ष्मी बाई की पुन्यथिति है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का यह एकमात्र फोटो है, जिसे कोलकाता में रहने वाले अंग्रेज फोटोग्राफर जॉनस्टोन एंड हॉटमैन द्वारा 1850 में ही खींचा गया था। यह फोटो अहमदाबाद निवासी चित्रकार अमित अंबालाल के संग्रह में मौजूद है। The only photo of Rani Laxmibai of Jhansi, which living in Calcutta in 1850 by the British photographer Ahugoman Jonstone and was pulled. This photo Ahmedabad resident artist Amit Ambalal exists in the collection.