सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कायर मनुष्य,कायर समाज व कायर राष्ट्र का कोई सहायक नहीं होता.

समझोतों से नहीं कभी भी युद्ध टला करते हैं।
कायर जन ही इनसे खुद को स्वयं छला करते हैं।।
स्वतंत्रता -काल से आज तक की कालावधि में पकिस्तान और भारत के मध्य लगभग १७५ बार से भी अधिक वार्तालापों के दौर चल चुके हैं। इस लम्बी वार्ताओं की कड़ी में उन सभी वार्तालापों के क्या परीणाम रहे,इसकी गहराई में जाने की अब कोई आवश्यकता नहीं रही है। इसको संछेप में सीधे सीधे ही यही कहा जा सकता है कि पकिस्तान से भारत लगभग १७५ बार ही कूटनीतिक युद्ध में पराजित हो चुका है। १९४८ में पाकिस्तान के सैनिकों का कबाइलियों के वेश में आक्रमण रहा हो या १९६५ का युद्ध हो अथवा १९७१ या फिर १९९९ में कारगिल का युद्ध हो, भारत समर-छेत्र सैनिक विजय के प्राप्त करने के बावजूद भी बार बार हारा है। इन युद्दों में प्राप्त सैनिक विजय के लिए भारत का शासक वर्ग यदि अपनी पीठ थपथपाता है तो वह राष्ट्र को यह बतलाने का भी साहस करे कि विजय प्राप्त करने के उपरांत भी पाकिस्तान के किस भू-भाग को उसने भारत के अधिकृत किया है। अथवा कोन सा लाभ या लक्सय उसकी इन विजयों द्वारा प्राप्त किया गया। जबकि पाकिस्तान बार बार पराजित होकर भी हर युद्ध के बाद भारत की अपेक्सा सदैव लाभ में ही रहा है।
भारत की कायर सत्ता एक बड़े युद्ध को टालने के लिए समय समय पर समझोतों और वार्ताओं का खेल खेलती है। जबकि शत्रु इस समय का सदुपयोग केवल अपनी सैनिक शक्ति को सुद्रढ़ करने में लगता रहता है। आजादी के समय पाकिस्तान एक अत्यंत निर्बल राष्ट्र ही था । किन्तु वार्तालापों में भारत को बार बार उलझाकर उसने आज तक जो शक्ति अर्जित कर ली है , वह आज सबके सम्मुख है। आज पाकिस्तान भारत की और आँख तरेरता है, उसकी नितांत ऊपेक्छा करता है ,बार बार धमकी देता है,यही सब आज तक के भारतीय राजनेताओं की उन सभी वार्ताओं से प्राप्त की गयी उपलब्धियां हैं। और अब फिर से एक नयी उपलब्धी प्राप्त करने की भारत सरकार की पाकितान के साथ सचिव स्तर की बात चल पडी है । भारत का जन जन इस वार्तालाप की अंतिम परिणति से परिचित है। वार्ता आरम्भ होने से पूर्व अपने आतंकवादियों से पुणे में कराये गए विस्फोटो के द्वारा पाकिस्तान ने इसकी जानकारी भारत को पहले ही दे दी है। बस अब तो केवल भारत सरकार ही इस वार्तालाप की ऊलाब्धि जान्ने के लिए उत्सुकता बची हुई है।
गत ६० वर्षों से इसी प्रकार से वार्ताओं का दोर चला आ रहा है । क्या भारत की सरकारे सचमुच इतनी भोली है कि वह केवल चर्चाओं के दोर चलाकर एक ऐसे शत्रु को नियंत्रण में लाना चाहती है,जिसके मन में कहीं गहरे तक भारत के प्रति केवल तीव्र घ्रणा ही बसी है।जिसका एक मात्र उदेश्य अपने जन्म काल से ही भारत को खंड खंड करके उसको मिटा देना या अपने अधिकार में करने का ही रहा है। केवल अपनी कायरता के कारण भारत उसके इस उद्देश्य की पूर्ती का ही एक परोक्स्त: माध्यम बनता चला आ रहा है ।
मेरा इन बातों का कहने का तात्पर्य यह भी नहीं है कि भारत को तुरंत ही पाकिस्तान पर आक्रमण कर देना चाहिए। किन्तु स्वाभिमान को बचाए रखने की सम्मति तो हर किसी भारतीय की भारत सरकार को देने की जिम्मेदारी बनती ही है।पाकिस्तान भारत का कोई छिपा शत्रु नहीं है,जिसके शत्रु भाव से कोई परिचित न हो। वह हर पल बातों का जहर उगलकर भारत के प्रति अपनी शत्रुता की घोषणा करता रहता है । तब क्या भारत को उसके प्रलाप का उत्तर इस प्रकार देना चाहिए,जिस प्रकार वह आज तक देता रहा है। अब पाकिस्तान को भारत की और से यह स्पष्ट चेतावनी मिलनी ही चाहिए कि यदि एक निश्चित समय सीमा तक यह अपने आतंकी कार्यों में सुधार नहीं करता तो फिर किसी भी सीमा तक जाने के लिए भारत की स्वतंत्रत है । इस वर्तमान वार्ता के दोर का तभी कुछ लाभ हो सकता है जब भारत पाकितान के सम्मुख आतंक समाप्त कर ने के लिए समय की एक निश्चित सीमा रेखा खीचे ।
भारत यदी इस प्रकार के चेतावनी देकर अपना दृढ रुख इस पर बनाए रखे तो विश्व बिरादरी भी उसका साथ देने के लिए विवश हो सकती है। भारत सरकार को यह समझ लेने की आवश्यकता है कि कायर मनुष्य का , कायर समाज का और कायर राष्ट्र का कोई सहायक नहीं होता । अपनी भुजाओं के बल पर विशवास करके ही इतिहास की धारा मोड़ी जा सकती है। एक अवश्यम्भावी युद्ध को टालने का प्रयास सदा कायर सत्ता ही करती है। धरती के यथार्थ कठोर तल पर पैर न जमाये रखकर जो केवल दिवा- स्वप्नों में ही झूलता है,ऐसा भयग्रस्त राष्ट्र कभी अपना भविष्य नहीं बना सकता । और अंत में ....................
उचित काल को राष्ट्र स्वयं ही बातों में खोता जो।
अपनी ही भावी पीढी का अपराधी होता वो॥

टिप्पणियाँ

  1. कायर राष्ट्र नीति की नींव १३ जनवरी १९४८ को ही रख दी गई थी जब पाक के कबायली हमले और कश्मीर के भू भाग पर कब्ज़े के विरोथ में ,पटेल की पहल पर पाक को ५५ करोड़ की अदायगी कबिनेट के फैसले से रोक दी गई थी। कबिनेट के इस फैसले के विरुद्ध गाँधी की अनशन की धमकी पर कबिनेट का फैसला वापस ले लिया गया। गाँधी जी के इस राष्ट्र विरोधी कार्य से ही क्षुब्ध हो कर ही गोडसे ने उनकी हत्या की कसम खाई थी। AC

    जवाब देंहटाएं
  2. उचित काल को राष्ट्र स्वयं ही बातों में खोता जो।
    अपनी ही भावी पीढी का अपराधी होता वो॥


    kya baat hai

    जवाब देंहटाएं
  3. उचित काल को राष्ट्र स्वयं ही बातों में खोता जो।
    अपनी ही भावी पीढी का अपराधी होता वो॥

    katu satya

    जवाब देंहटाएं
  4. निर्बल होते जब शस्त्र ,शास्त्र रोते हैं
    ऋषियों के भी यज्ञं सफल तब हो पाते
    जब स्वयं धनुर्धर राम वहां पहरा देते हैं

    ( ' परसुराम की प्रतीक्षा ' ...........से ' दिनकर ' )

    यद्यपि आज भारत राष्ट्र राज्य आयुध विज्ञान में सबल है पर पाकिस्तान का मुकाबला करने के लिए जिस दृढ इक्षा शक्ति की जरूरत है वह भारत पर राज्य कर रहे ' देशद्रोहियों ' में नहीं है और यही वंश आधुनिक भारत का अब तक का महानतम अभिशाप है . आज भारत जहां है उसके लिए यही वंश जिम्मेदार है.

    ९/११ के बाद अमेरिका में कोई छुटपुट घटना भी नहीं हुयी आतंक की और हर षड्यंत्र की हत्या भ्रूण में ही कर दी गयी .छोटा सा देश इजराईल ,उसने अपने खिलाफ किये गए हर द्रोह को दुनियां भर में ढूंढ ढूंढ कर बदला लिया और अब आतंक उसके पैरों पर गिर गिडगिडा रहा है .वही आतंक जिसने कभी इजराईल का नाश कर काले सागर में दफन कर देने की गर्वोक्ति की थी.

    भारत पर २६/११ कर गुजरने वालों का हम अभी तक सिर्फ पुलिंदा बांच रहे हैं पर उसके सिर्फ कुछ नागरिकों की उसी घटना में हत्या कर देने की एवज इजराईल के ' मोसाद ' ने सभी अपराधियों को ख़त्म कर देने का बीड़ा उठाया है.और जो मोसाद को जानते हैं वह यह भी जानते हैं की उन अपराधियों की जिन्दगी की उल्टी गिनती शुरू हो गयी है .

    हम दुनियां भर से गाते फिर रहे हैं की भारत के खिलाफ पाकिस्तानी आतंकी शिविर चल रहे हैं और उन ठिकानों के ब्योरे देते फिर रहे हैं .

    इजराईल ने जो किया हम क्यूं नहीं करते ? इजराईल ने ऐसे हर ठिकानो को तबाह किया फिर वार्ता की मेज पर आने को मजबूर किया वह भी अपनी शर्तों पर.हम दावा तो करते हैं की हमारे पास ऐसी मिसाईलें हैं जो इसे एक सर्जन की छुरी जैसी , इस ' कैंसर ' को ख़त्म कर सकते हैं .पर हम वार्ताएं कर रहे हैं.जानते हुए भी की ऐसी हर वार्ताएं पाकिस्तान नाटक की तरह सिर्फ समय निकालने और खुद को मजबूत बनाने के लिए करता आ रहा है.६३ सालों से.

    भारत के लिए यह वक्त उसके अस्तित्व विनाश का भयानकतम संकटकाल है .तुष्टिकरण से भीतरी दुश्मन ,वाम मार्गी और राष्ट्र्दोहियों के सत्तासमीकरण द्वारा सत्ता लिप्सा और उसकी एजेंट मीडिया ,तीन शत्रुओं ने उसे बाहर भीतर से घेर लिया है . और हम ' स्वयंवर ' रचाने ,देखने, दिखाने में लगे हैं.

    हे इश्वर इस मुल्क को अक्ल दे की वह आस्तीन के साँपों को पहचाने .

    जवाब देंहटाएं
  5. aapnen kaayr logon ke zmir ko jgaane ki koshish ki he koshish krte rhiye inshaaallah kaamyaabi milegi aapki is koshish men hm bhi hmeshaan aaapke saath khde milenge . akhtar khan akela kota rajastha

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुरान और गैर मुस्लमान

इस लेख को लिखने से मेरा किसी भी धर्म का विरोध करने का कोई उद्देश्य नही है। अपितु य ह लेख इस्लाम के प्रचार के लि ए है । कुरान मुसलमानों का मजहबी ग्रन्थ है.मुसलमानों के आलावा इसका ज्ञान गैर मुस्लिमों को भी होना आवश्यक है। ............................................................. मानव एकता और भाईचारे के विपरीत कुरान का मूल तत्व और लक्ष्य इस्लामी एकता व इस्लामी भाईचारा है. गैर मुसलमानों के साथ मित्रता रखना कुरान में मना है. कुरान मुसलमानों को दूसरे धर्मो के विरूद्ध शत्रुता रखने का निर्देश देती है । कुरान के अनुसार जब कभी जिहाद हो ,तब गैर मुस्लिमों को देखते ही मार डालना चाहिए। कुरान में मुसलमानों को केवल मुसलमानों से मित्रता करने का आदेश है। सुरा ३ की आयत ११८ में लिखा है कि, "अपने (मजहब) के लोगो के अतिरिक्त किन्ही भी लोगो से मित्रता मत करो। " लगभग यही बात सुरा ३ कि आयत २७ में भी कही गई है, "इमां वाले मुसलमानों को छोड़कर किसी भी काफिर से मित्रता न करे। " सन १९८४ में हिंदू महासभा के दो कार्यकर्ताओं ने कुरान की २४ आयातों का एक पत्रक छपवाया । उस पत्रक को छपवाने

सनातन धर्म का रक्षक महान सम्राट पुष्यमित्र शुंग

मोर्य वंश के महान सम्राट चन्द्रगुप्त के पोत्र महान अशोक (?) ने कलिंग युद्ध के पश्चात् बौद्ध धर्म अपना लिया। अशोक अगर राजपाठ छोड़कर बौद्ध भिक्षु बनकर धर्म प्रचार में लगता तब वह वास्तव में महान होता । परन्तु अशोक ने एक बौध सम्राट के रूप में लग भाग २० वर्ष तक शासन किया। अहिंसा का पथ अपनाते हुए उसने पूरे शासन तंत्र को बौद्ध धर्म के प्रचार व प्रसार में लगा दिया। अत्यधिक अहिंसा के प्रसार से भारत की वीर भूमि बौद्ध भिक्षुओ व बौद्ध मठों का गढ़ बन गई थी। उससे भी आगे जब मोर्य वंश का नौवा अन्तिम सम्राट व्रहद्रथ मगध की गद्दी पर बैठा ,तब उस समय तक आज का अफगानिस्तान, पंजाब व लगभग पूरा उत्तरी भारत बौद्ध बन चुका था । जब सिकंदर व सैल्युकस जैसे वीर भारत के वीरों से अपना मान मर्दन करा चुके थे, तब उसके लगभग ९० वर्ष पश्चात् जब भारत से बौद्ध धर्म की अहिंसात्मक निति के कारण वीर वृत्ति का लगभग ह्रास हो चुका था, ग्रीकों ने सिन्धु नदी को पार करने का साहस दिखा दिया। सम्राट व्रहद्रथ के शासनकाल में ग्रीक शासक मिनिंदर जिसको बौद्ध साहित्य में मिलिंद कहा गया है ,ने भारत वर्ष पर आक्रमण की योजना बनाई। मिनिंदर ने सबसे प

ये है झांसी की रानी (jhansi ki rani)का असली चित्र.

मित्रो आज १७ जून को झाँसी की रानी लक्ष्मी बाई की पुन्यथिति है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का यह एकमात्र फोटो है, जिसे कोलकाता में रहने वाले अंग्रेज फोटोग्राफर जॉनस्टोन एंड हॉटमैन द्वारा 1850 में ही खींचा गया था। यह फोटो अहमदाबाद निवासी चित्रकार अमित अंबालाल के संग्रह में मौजूद है। The only photo of Rani Laxmibai of Jhansi, which living in Calcutta in 1850 by the British photographer Ahugoman Jonstone and was pulled. This photo Ahmedabad resident artist Amit Ambalal exists in the collection.