सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नामर्दों का देश है ,जल्दी जल्दी लूट. तुझको पूरी छुट है,सब इटली लेके फूट.


अगर देश में किसी एक नेता के दामाद को देश के सर्वोच्च ३१ वी आई पी में केवल इसलिए स्थान दिया जाये की वो इटेलियन मोम सोनिया गाँधी का दामाद है या फिर कहें की केन्द्रीय सरकार ने सोनिया के दामाद को सरकारी दामाद बना रखा है तो आपको कैसा लगेगा?
ज्यादा दिमाग पर जोर देने की आवश्यकता नहीं है है, आप ठीक सोच रहे हैं की यहाँ हम प्रियंका गाँधी के हम नजर,हमदम रॉबर्ट वढेरा की ही बात कर रहे हैं.
ये वाक्या है भारत के सभी एयरपोर्ट्स का,जहाँ पर उन पदों की सूचि लगी रहती है,जो कहीं भी जाएँ तो उनकी तलाशी व उनके सामान की तलाशी नहीं ली जा सकती. सर्वप्रथम आप उन पदों पर एक द्रष्टि डालिए............................
१ राष्ट्रपति व पुर्व राष्ट्रपति २ प्रधान मंत्री व पूर्व प्रधान मंत्री ३ उप राष्ट्रपति ४ उप प्रधान मंत्री ५............... ६...............
७ चीफ जस्टिस ऑफ़ इंडिया
८ लोक सभा स्पीकर
९ केबिनेट मंत्री
१० मुख्यमंत्री
११ उप मुख्या मंत्री
१२ डिप्टी चेयर मेन ऑफ़ प्लानिग्न कमीशन
१३ लोक सभा व राज्य सभा के विपक्ष नेता
१४ भारत रत्न १५ राजदूत १६ सुप्रीम कोर्ट के जज १७ इलेक्शन कमिशनर १८ कंट्रोलर व एडिटर जनरल १९ डिप्टी चेयर मेन राज्य सभा व डिप्टी स्पीकर
२० स्टेट मिनिस्टर (यूनियन कौंसिल) २१ एटमी जनरल २२ कैबिनेट सेकेट्री २३ एस पी गी प्रोतेक्ट्स २४ विजिटर फोर्नर सेम स्टेटस १ ...............९
२५ हाई कोर्ट के जज
२६ केंद्र शासित प्रदेश के मुख्य मंत्री
२७ केबिनेट सेकेट्री २८ दलाई लामा २९ ......................... ३० .........................................३१ रॉबर्ट वढेरा
एयर पोर्ट्स पर लगी ये सूचि भारत के वी आई पी पदों की है जहाँ पर कोई भी नाम नहीं है किन्तु तमाशा देखिये की लिस्ट में एक नाम ऐसा है जो न तो कोई वी आई पी है और न हीं भारत रतन हाँ अगर है तो कोंग्रेस का दामाद,एक तश्कर , एक अपराधी और एक देशद्रोही.
वढेरा एक बिजनेस मेन है,और उस पर हसन अली के साथ मिलकर कई बार तश्करी का आरोप लग चूका है.भारत में हो रहे घपलों में लगातार वढेरा का नाम आ रहा है. वढेरा का बिजनेस भारत व इटली में है. वह भारत से चोरी की मुर्तिया इटली भेजता है,यह आरोप भी उस पर लगातार लगते रहे हैं
किन्तु हाय भारत के लोकतंत्र, सोनिया मैडम का मल मूत्र तक चाटने वाले राजतंत्री कोंग्रेसियो ने वढेरा को सरकारी दामाद बनाकर उसकी तलाशी लेने का सारा मेटर ही समाप्त कर दिया और ये खुली छूट दे दी है की
नामर्दों का देश है ,जल्दी जल्दी लूट
तुझको पूरी छुट है,सब इटली लेके फूट.

देश लूट रहा है ये सरकारी दामाद_ROBERT VADRA इस लिंक को यु ट्यूब पर डालिए
www.youtube.com

टिप्पणियाँ

  1. हमारे विपक्ष के नेता भी इसके विरुद्ध नहीं बोलते हैं इसका सीधा अर्थ है कि विपक्ष भी खांग्रेस से मिला हुआ है

    जवाब देंहटाएं
  2. Jaankari ke liye Shukriya.... Sharm aati hai aisi sarkar par.... Chatukarita ki hadd ho gayi.....

    जवाब देंहटाएं
  3. नामर्दों का देश है ,जल्दी जल्दी लूट
    तुझको पूरी छुट है,सब इटली लेके फूट.

    suna hai paap ka ghada footta jarror hai
    dekhte hai ye kab footega

    जवाब देंहटाएं
  4. des droohi hai india se astdhatu ki murtiyo ka samaglar hai

    जवाब देंहटाएं
  5. neta ko namard to ham sabne hi banaya hai.jab banaya hai to bhugtna hi padega .

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुरान और गैर मुस्लमान

इस लेख को लिखने से मेरा किसी भी धर्म का विरोध करने का कोई उद्देश्य नही है। अपितु य ह लेख इस्लाम के प्रचार के लि ए है । कुरान मुसलमानों का मजहबी ग्रन्थ है.मुसलमानों के आलावा इसका ज्ञान गैर मुस्लिमों को भी होना आवश्यक है। ............................................................. मानव एकता और भाईचारे के विपरीत कुरान का मूल तत्व और लक्ष्य इस्लामी एकता व इस्लामी भाईचारा है. गैर मुसलमानों के साथ मित्रता रखना कुरान में मना है. कुरान मुसलमानों को दूसरे धर्मो के विरूद्ध शत्रुता रखने का निर्देश देती है । कुरान के अनुसार जब कभी जिहाद हो ,तब गैर मुस्लिमों को देखते ही मार डालना चाहिए। कुरान में मुसलमानों को केवल मुसलमानों से मित्रता करने का आदेश है। सुरा ३ की आयत ११८ में लिखा है कि, "अपने (मजहब) के लोगो के अतिरिक्त किन्ही भी लोगो से मित्रता मत करो। " लगभग यही बात सुरा ३ कि आयत २७ में भी कही गई है, "इमां वाले मुसलमानों को छोड़कर किसी भी काफिर से मित्रता न करे। " सन १९८४ में हिंदू महासभा के दो कार्यकर्ताओं ने कुरान की २४ आयातों का एक पत्रक छपवाया । उस पत्रक को छपवाने

सनातन धर्म का रक्षक महान सम्राट पुष्यमित्र शुंग

मोर्य वंश के महान सम्राट चन्द्रगुप्त के पोत्र महान अशोक (?) ने कलिंग युद्ध के पश्चात् बौद्ध धर्म अपना लिया। अशोक अगर राजपाठ छोड़कर बौद्ध भिक्षु बनकर धर्म प्रचार में लगता तब वह वास्तव में महान होता । परन्तु अशोक ने एक बौध सम्राट के रूप में लग भाग २० वर्ष तक शासन किया। अहिंसा का पथ अपनाते हुए उसने पूरे शासन तंत्र को बौद्ध धर्म के प्रचार व प्रसार में लगा दिया। अत्यधिक अहिंसा के प्रसार से भारत की वीर भूमि बौद्ध भिक्षुओ व बौद्ध मठों का गढ़ बन गई थी। उससे भी आगे जब मोर्य वंश का नौवा अन्तिम सम्राट व्रहद्रथ मगध की गद्दी पर बैठा ,तब उस समय तक आज का अफगानिस्तान, पंजाब व लगभग पूरा उत्तरी भारत बौद्ध बन चुका था । जब सिकंदर व सैल्युकस जैसे वीर भारत के वीरों से अपना मान मर्दन करा चुके थे, तब उसके लगभग ९० वर्ष पश्चात् जब भारत से बौद्ध धर्म की अहिंसात्मक निति के कारण वीर वृत्ति का लगभग ह्रास हो चुका था, ग्रीकों ने सिन्धु नदी को पार करने का साहस दिखा दिया। सम्राट व्रहद्रथ के शासनकाल में ग्रीक शासक मिनिंदर जिसको बौद्ध साहित्य में मिलिंद कहा गया है ,ने भारत वर्ष पर आक्रमण की योजना बनाई। मिनिंदर ने सबसे प

ये है झांसी की रानी (jhansi ki rani)का असली चित्र.

मित्रो आज १७ जून को झाँसी की रानी लक्ष्मी बाई की पुन्यथिति है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का यह एकमात्र फोटो है, जिसे कोलकाता में रहने वाले अंग्रेज फोटोग्राफर जॉनस्टोन एंड हॉटमैन द्वारा 1850 में ही खींचा गया था। यह फोटो अहमदाबाद निवासी चित्रकार अमित अंबालाल के संग्रह में मौजूद है। The only photo of Rani Laxmibai of Jhansi, which living in Calcutta in 1850 by the British photographer Ahugoman Jonstone and was pulled. This photo Ahmedabad resident artist Amit Ambalal exists in the collection.