सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

आधुनिक भारत में हिन्दू समाज का सबसे बड़ा दुश्मन


एक बार एक वाल्मीकि बस्ती में मंदिर में गाँधी जी कुरान का पाठ करा रहे थे. तभी भीड़ में से एक औरत ने उठकर गाँधी से ऐसा करने को मना किया.
गाँधी ने पूछा .. क्यों?
तब उस औरत ने कहा कि ये हमारे धर्म के विरुद्ध है.
गाँधी ने कहा.... मै तो ऐसा नहीं मानता ,
तो उस औरत ने जवाब दिया कि हम आपको धर्म में व्यवस्था देने योग्य नहीं मानते.
गाँधी ने कहा कि इसमें यहाँ उपस्थित लोगों का मत ले लिया जाय.
औरत ने जवाब दिया कि क्या धर्म के विषय में वोटो से निर्णय लिया जा सकता है.
गाँधी बोला कि आप मेरे धर्म में बांधा डाल रही हैं.
औरत ने जवाब दिया कि आप तो करोडो हिन्दुओ के धर्म में नाजायज दखल दे रहे हैं.
गाँधी बोला ..मै तो कुरान सुनुगा .
औरत बोली ...मै इसका विरोध करुँगी.
और तभी औरत के पक्ष में सैकड़ो वाल्मीकि नवयुवक खड़े हो गए.और कहने लगे कि मंदिर में कुरान पढवाने से पहले किसी मस्जिद में गीता और रामायण का पाठ करके दिखाओ तो जाने.
विरोध बढ़ते देखकर गाँधी ने पुलिस को बुला लिया. पुलिस आई और विरोध करने वालों को पकड़ कर ले गयी .और उनके विरुद्ध दफा १०७ का मुकदमा दर्ज करा दिया गया .
और इसके पश्चात गाँधी ने पुलिस सुरक्षा में उस मंदिर में कुरान पढ़ी.
`(पुस्तक विश्वासघात ........ लेखक -- गुरुदत्त )

टिप्पणियाँ

  1. vicharniiy prasn

    मंदिर में कुरान पढवाने से पहले किसी मस्जिद में गीता और रामायण का पाठ करके दिखाओ तो जाने.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. aaj ham sab ko 1 hokar apne hindustan ko HINDU rashtra banane me ekjut hokar kaary karna chahiye

      हटाएं
    2. Bhagwan Har jagah Hai aisa geeta main likha hai...Allah har jagah hai aisa kuran main likha hai... Mandir main kuran padhna aur masjid main geeta path karna main koi burai nahi hai....Yeh to in kamine Pandit aur Mulla ne phalai hui hai.....kafiron hindu ya musalman banne se pahale insaan to bun jao............

      हटाएं
  2. kon si valmiki basti thi?apne aap he story bana di taki is caste ke logo ko hinduism ke kattar samarthak dikha sako.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. are chutiye tu kya katiya h kya,ya fir congresi jo musalmano ki chaddiya dhote rahte h.

      हटाएं
  3. dharam ke naam par larne se pahle dharam ka matlab tau samjho - dharam teen akhshar se bana hai dh r aur m yani ki dh se dherya, r se raham tatha m se mohabaat. jis insaan main ye tino hai vastav main vahi sachhe arth main dharmik hai

    जवाब देंहटाएं
  4. HE WAS/IS FATHER OF PAKISTAN - ALL GANDHI SPOILED OUR MOTHER LAND - MK GANDHI & ALL FAKE GANDHI - WE SHOULD REMOVE GANDHI FROM OUR MOTHER LAND FIRST

    जवाब देंहटाएं
  5. benami ji agar aankho ki jagah batan lage hain to mai kya kar sakta hoon.hindi sahity ka kabhi adhdhyan kiya ho to gurudatt ji naam jaroor suna hoga. vishvasghat unhi ki pustak hai.

    जवाब देंहटाएं
  6. Always so interesting to visit your site.What a great info, thank you for sharing. this will help me so much in my learning.
    karachi online shopping

    जवाब देंहटाएं
  7. read Gujarati Novel 'prakash no padchhayo' written by Dinkar joshi.

    जवाब देंहटाएं
  8. मैंने इक सपना देखा है,
    ऐसा हो जाये भगवान।
    मुसलमान के घर में गीता,
    हिन्दु करता मिले अजान।
    हिन्दु मुस्लिम से अच्छा है,
    अगर बने सच्चे इन्सान।
    धर्म ने मंदिर मस्जिद तोड़े,
    किये धर्म ने कत्ले-आम।
    धर्म बिना भी हम नैतिक है,
    बतलाओ क्या धर्म का काम।

    जवाब देंहटाएं
  9. महात्मा गांधी---- बहुत ही कायर (डरपोक) इन्सान था । यह एक "मानसिक रोगी" भी था और इसका दिमाग किसी बात को सोचने-समझने के लायक नहीं था । इसने हमेशा गलत निर्णय लिये और अपने गलत निर्णयों के द्वारा हिन्दुओं को भारी हानि पहुंचायी थी । इसने हमेशा "हिन्दुओं" को गुमराह किया और "हिन्दुओं" को कायर (डरपोक) बनाने का प्रयास किया । गांधी की असलियत जानने के लिये "इन्टरनेट" पर यह "लिन्कस" देखें----- On YOUTUBE------ (1) Dialogue between Veer Savarkar and Gandhiji (2) Definition of Hindutva- Veer Savarkar.

    जवाब देंहटाएं
  10. अगर इस कमीने और देशद्रोही "मोहनदास करमचन्द गांधी" (जिसे मूर्ख लोग "महात्मा गांधी" कहते थे) की असलियत जानना चाहते हो तो---- नाथूराम गोडसे द्वारा न्यायालय में दिया गया बयान पढ लो । यह बयान "गांधी वध : क्यों और कैसे ?" नामक किताब में पढने को मिल जायेगा | कांग्रेस ने इस किताब पर प्रतिबन्ध लगा दिया था लेकिन बाद में "न्यायालय" ने प्रतिबन्ध को हटा दिया । अब इस किताब पर कोई प्रतिबन्ध नहीं है-- इसलिये आज ही यह किताब पढें । इस किताब में इस कमीने "महात्मा गांधी" की सारी करतूतों को उजागर किया गया है ।

    जवाब देंहटाएं
  11. AAJ HINDU SAMAJ SABHI KE LIYE KHULI PRAYOGSHALA KYU BANA HAI. AB AUR NAHI YE SAB KHATAM HONA HOGA.

    जवाब देंहटाएं
  12. gandhi was the biggest crap who ever born in india .

    जवाब देंहटाएं
  13. jindaa baad nathuram ji ko yah kam bahut hi pale kar dena chaahiye thaa

    जवाब देंहटाएं
  14. aape sab pagal ho.kaam dhandha hai to nahi,bekaar me bethe bahas karti ho.gadho ke bachche ho,

    जवाब देंहटाएं
  15. tum sab anpar gwaar ho.chahe hindu ho ya mushlmaan,gande nale ke kerai ho,sirf dharm ke baat kartai ho,kabhi bed, atharbed,ramayan,mahabharat,ya quraan..hadish,nahi parhe ho,tum logo ke demag me keera hai.

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुरान और गैर मुस्लमान

इस लेख को लिखने से मेरा किसी भी धर्म का विरोध करने का कोई उद्देश्य नही है। अपितु य ह लेख इस्लाम के प्रचार के लि ए है । कुरान मुसलमानों का मजहबी ग्रन्थ है.मुसलमानों के आलावा इसका ज्ञान गैर मुस्लिमों को भी होना आवश्यक है। ............................................................. मानव एकता और भाईचारे के विपरीत कुरान का मूल तत्व और लक्ष्य इस्लामी एकता व इस्लामी भाईचारा है. गैर मुसलमानों के साथ मित्रता रखना कुरान में मना है. कुरान मुसलमानों को दूसरे धर्मो के विरूद्ध शत्रुता रखने का निर्देश देती है । कुरान के अनुसार जब कभी जिहाद हो ,तब गैर मुस्लिमों को देखते ही मार डालना चाहिए। कुरान में मुसलमानों को केवल मुसलमानों से मित्रता करने का आदेश है। सुरा ३ की आयत ११८ में लिखा है कि, "अपने (मजहब) के लोगो के अतिरिक्त किन्ही भी लोगो से मित्रता मत करो। " लगभग यही बात सुरा ३ कि आयत २७ में भी कही गई है, "इमां वाले मुसलमानों को छोड़कर किसी भी काफिर से मित्रता न करे। " सन १९८४ में हिंदू महासभा के दो कार्यकर्ताओं ने कुरान की २४ आयातों का एक पत्रक छपवाया । उस पत्रक को छपवाने

सनातन धर्म का रक्षक महान सम्राट पुष्यमित्र शुंग

मोर्य वंश के महान सम्राट चन्द्रगुप्त के पोत्र महान अशोक (?) ने कलिंग युद्ध के पश्चात् बौद्ध धर्म अपना लिया। अशोक अगर राजपाठ छोड़कर बौद्ध भिक्षु बनकर धर्म प्रचार में लगता तब वह वास्तव में महान होता । परन्तु अशोक ने एक बौध सम्राट के रूप में लग भाग २० वर्ष तक शासन किया। अहिंसा का पथ अपनाते हुए उसने पूरे शासन तंत्र को बौद्ध धर्म के प्रचार व प्रसार में लगा दिया। अत्यधिक अहिंसा के प्रसार से भारत की वीर भूमि बौद्ध भिक्षुओ व बौद्ध मठों का गढ़ बन गई थी। उससे भी आगे जब मोर्य वंश का नौवा अन्तिम सम्राट व्रहद्रथ मगध की गद्दी पर बैठा ,तब उस समय तक आज का अफगानिस्तान, पंजाब व लगभग पूरा उत्तरी भारत बौद्ध बन चुका था । जब सिकंदर व सैल्युकस जैसे वीर भारत के वीरों से अपना मान मर्दन करा चुके थे, तब उसके लगभग ९० वर्ष पश्चात् जब भारत से बौद्ध धर्म की अहिंसात्मक निति के कारण वीर वृत्ति का लगभग ह्रास हो चुका था, ग्रीकों ने सिन्धु नदी को पार करने का साहस दिखा दिया। सम्राट व्रहद्रथ के शासनकाल में ग्रीक शासक मिनिंदर जिसको बौद्ध साहित्य में मिलिंद कहा गया है ,ने भारत वर्ष पर आक्रमण की योजना बनाई। मिनिंदर ने सबसे प

ये है झांसी की रानी (jhansi ki rani)का असली चित्र.

मित्रो आज १७ जून को झाँसी की रानी लक्ष्मी बाई की पुन्यथिति है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का यह एकमात्र फोटो है, जिसे कोलकाता में रहने वाले अंग्रेज फोटोग्राफर जॉनस्टोन एंड हॉटमैन द्वारा 1850 में ही खींचा गया था। यह फोटो अहमदाबाद निवासी चित्रकार अमित अंबालाल के संग्रह में मौजूद है। The only photo of Rani Laxmibai of Jhansi, which living in Calcutta in 1850 by the British photographer Ahugoman Jonstone and was pulled. This photo Ahmedabad resident artist Amit Ambalal exists in the collection.