सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

नाथूराम गोडसे व गाँधी ........भाग २

जैसा की पिछले भाग में बताया गया है कि गोडसे गाँधी की मुस्लिम तुस्टीकरण की निति से किस प्रकार छुब्द था अब उससे आगे के बयान ...................................

अनुच्छेद ७० का भाग ग ........................जब खिलाफत आन्दोलन असफल हो गया ----------------------------------------------इस ध्येय के लिए गाँधी अली भाइयों ने गुप्त से अफगानिस्तान के अमीर को भारत पर हमला करने का निमंत्रण दिया.इस षड़यंत्र के पीछे बहुत बड़ा इतिहास है। ----------------------------------------गाँधी जी के एक लेख का अंश नीचे दिया जा रहा है................."मै नही समझता कि जैसे ख़बर फैली है,अली भाइयों को क्यो जेल मे डाला जाएगा और मै आजाद रहूँगा?उन्होंने ऐसा कोई कार्य नही किया है कि जो मे न करू। यदि उन्होंने अमीर अफगानिस्तान को आक्रमण के लिए संदेश भेजा है,तो मै भी उसके पास संदेश भेज दूँगा कि जब वो भारत आयेंगे तो जहाँ तक मेरा बस चलेगा एक भी भारतवासी उनको हिंद से बहार निकालने में सरकार कि सहायता नही करेगा।"

अनुच्छेद ७० का भाग ........................हिन्दी के विरूद्ध हिदुस्तानी ----------------राष्ट्र भाषा के प्रश्न पर गाँधी जी ने मुसलमानों का जिस प्रकार अनुचित पक्षलिया------------------किसी भी द्रष्टि से देखा जाय तो राष्ट्रभाषा बनने का अधिकार हिन्दी को है। परंतु मुसलमानों खुश करने के लिए वे हिन्दुस्तानी का प्रचार करने लगे------------------------------यानि बादशाह राम व बेगम सीता जैसे शब्दों का प्रयोग होने लगा। ------------------------हिन्दुस्तानी के रूप में स्कूलों में पढ़ाई जाने लगी इससे कोई लाभ नही था ,प्रत्युत इसलिए की मुस्लमान खुश हो सके। इससे अधिक सांप्रदायिक अत्याचार और क्या होगा? ----------------------------------

अनुच्छेद ७० का भाग ................................न गाओ वन्देमातरम ----------------कितनी लज्जा जनक बात है की मुस्लमान वन्देमातरम पसंद नही करते। गाँधी जी पर जहाँ तक हो सका उसे बंद करा दिया। ------------------------------------------------

अनुच्छेद ७० का भाग ढ ......................................गाँधी ने शिवबवनी पर रोक लगवा दी ------------------------शिवबवनी ५२ छंदों का एक संग्रह है,जिसमे शिवाजी महाराज की प्रशंसा की गई है.---------------इसमे एक छंद में कहा गया है की अगर शिवाजी न होते तो सारा देश मुस्लमान हो जाता। ---------------------इतिहास और हिंदू धर्म के दमन के अतिरिक्त उनके सामने कोई सरल मार्ग न था।

अनुच्छेद ७० का भाग फ ..................................कश्मीर के विषय में गाँधी हमेशा ये कहते रहे की सत्ता शेख अब्दुल्ला को सौप दी जाय, केवल इसलिए की कश्मीर में मुसाल्मान अधिक है। इसलिए गाँधी जी का मत था की महाराज हरी सिंह को सन्यास लेकर काशी चले जन चाहिए,परन्तु हैदराबाद के विषय में गाँधी की निति भिन्न थी। यद्यपि वहां हिन्दुओं की जनसँख्या अधिक थी ,परन्तु गाँधी जी ने कभी नही कहा की निजाम फकीरी लेकर मक्का चला जाय।

अनुच्छेद ७० का भाग म ..............................कोंग्रेस ने गाँधी जी को सम्मान देने के लिए चरखे वाले झंडे को राष्ट्रिय ध्वज बनाया। प्रत्येक अधिवेशन में प्रचुर मात्रा में ये झंडे लगाये जाते थे. -------------------------------इस झंडे के साथ कोंग्रेस का अति घनिष्ट समबन्ध था। नोआखली के १९४६ के दंगों के बाद वह ध्वज गाँधी जी की कुटिया पर भी लहरा रहा था, परन्तु जब एक मुस्लमान को ध्वज के लहराने से आपत्ति हुई तो गाँधी ने तत्काल उसे उतरवा दिया। इस प्रकार लाखों करोडो देशवासियों की इस ध्वज के प्रति श्रद्धा को अपमानित किया। केवल इसलिए की ध्वज को उतरने से एक मुस्लमान खुश होता था।

अनुच्छेद ७८ .........................गाँधी जी -----------------------------सुभाषचंद्र बोस अध्यक्ष पद पर रहते हुए गाँधी जी की निति पर नही चले। फ़िर भी वे इतने लोकप्रिय हुए की गाँधी जी की इच्छा के विपरीत पत्ताभी सीतारमैया के विरोध में प्रबल बहुमत से चुने गए ------------------------गाँधी जी को दुःख हुआ.उन्होंने कहा की सुभाष की जीत गाँधी की हार है। -----------------जिस समय तक सुभाष बोस को कोंग्रेस की गद्दी से नही उतरा गया तब तक गाँधी का क्रोध शांत नही हुआ।

अनुच्छेद ८५ .......................मुस्लिम लीग देश की शान्ति को भंग कर रही थी। और हिन्दुओं पर अत्याचार कर रही थी। -------------------कोंग्रेस इन अत्याचारों को रोकने के लिए कुछ भी नही करना चाहती थी,क्यो की वह मुसलमानों को प्रसन्न रखना चाहती थी। गाँधी जी जिस बात को अपने अनुकूल नही पते थे ,उसे दबा देते थे। इसलिए मुझे यह सुनकर आश्चर्य होता है की आजादी गाँधी जी ने प्राप्त की । मेरा विचार है की मुसलमानों के आगे झुकना आजादी के लिए लडाई नही थी।------------------गाँधी व उनके साथी सुभाष को नष्ट करना चाहते थे।

अनुच्छेद ८८ ..........................गाँधी जी के हिंदू मुस्लिम एकता का सिद्धांत तो उसी समय नष्ट हो गया, जिस समय पाकिस्तान बना। प्रारम्भ से ही मुस्लिम लीग का मत था की भारत एक देश नही है। ------------------------------------हिंदू तो गाँधी के परामर्श पर चलते रहे किंतु मुसलमानों ने गाँधी की तरफ़ ध्यान नही दिया और अपने व्यवहार से वे सदा हिन्दुओं का अपमान और अहित करते रहे और अंत में देश दो टुकडों में बँट गया।
क्रमश

टिप्पणियाँ

  1. congresh ki nitiyon ke karan hamara itihas hijdon ke haaton me chala gaya.nathuram ke poore bayan likhen.

    जवाब देंहटाएं
  2. naveen ji maiaapke kuch lekh apne blog par dalna chahta hoon.krapa aagya den.

    जवाब देंहटाएं
  3. anupam awasthi (C.G.) kanker20 सितंबर 2009 को 4:36 am

    mahatma gandhi chahte to shahid bhagat sih ko fasi nahi hoti........ agar wo chahte to desh ka batwara nahi hota.......

    जवाब देंहटाएं
  4. naveen ji namaskar...aaj mujhe nathuram godse ke upar likha gaya lekh pehli baar padhne ka mauka mila..gandhi ke bare main itna sabkuch hone ke baad bhi desh ke neta ab bhi har saal karoron rupayee us gandhi pe kharch kar rahe hain...jiska koi auchitya nahin banta hai???

    जवाब देंहटाएं
  5. मुझे कभी कभी प्रश्न पडता हैं कि
    गांधी हिंदू था कि मुसलमान

    जवाब देंहटाएं
  6. Hi Sir ,I am a software developer. I always think that Nathuram was hindu and why he shoot to gandhi.After Reading thses reasons i wana that these all statement all known by each hindu person so that he can a respect to nathu

    जवाब देंहटाएं
  7. HINDI aur HINDU (vastav me vaidik ya sanatan) dharm ka koi sambandh nahi hai. HINDI vastav me URDU ka hi devnagari version hai.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. सायद आपका इतिहास का ज्ञान स्तर जो भी हो परंतु वास्तव में वैदिक भांषा संस्कृत है।
      और
      मेरे अनुसार उर्दू को अरबी और बृजी को मिलाकर ही बनाया गया था

      हटाएं
    2. 12 bajay basti may kaun aya or kya karthey sabko malum hai

      हटाएं
  8. @हनवंतसिंघ ने कहा…
    u have zero knowledge about anything
    Urdu is not a language because it does not have his script,word and grammer

    Urdu has script of arab,words from farsi and grammer of hindi
    every indian language have their regional like talgu is from andhra side tamil is from tamil side right!
    hindi has more than one states
    but urdu has no state why?????????
    because it created intentionally on bases of religion .

    जवाब देंहटाएं
  9. हमें इंतज़ार है इससे आगे के बारे में जानने का......
    Plz आप मुझे मेल कर दीजिये आगे का लिख कर
    मेरी मेल ID है
    jaura.chetan@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
  10. Main Intgaar Karunga Use Din Ka Jis Din Hmare Desh k Asli Hero {Bhagat Shigh Aur Uske Sathiyo}Ko Pura Desh Ghandi Se Jyadha Samaan De Aur Inhe Nationl Heros Goshit Karke Inke Janmdin Ko JanamDivs Ke Roop Me Manaye aur Use National Holiday Banaya Jaye.

    जवाब देंहटाएं
  11. naveenji muze bahot accha laga gdndhi ki asliyat ab aap duniya ke samne rakh dijiye

    जवाब देंहटाएं
  12. subhas manavta ke dusman hitlar ka saath le kar angrejo se ladna chate the,isliye gandhi subhas ke khilap the

    जवाब देंहटाएं
  13. angrejo ke bharat aane se pahle ham 1000 varsho se musalmano ke gulam the,sach to yah hai ki angrejo ne musalmano se satta chhin kar hame di,ham apne bal par musalmano se satta prapt nahi kar sakte the

    जवाब देंहटाएं
  14. It is very much unfortunate that we are governing by Congress govt.............

    जवाब देंहटाएं
  15. sach kahu to gandhi ne desk ko kharab kar diya wo chahta to bagat sing bhi jinda hote aaj jo kuch bhi ho raha hai usme bhi gandhi hi jimmedar hai

    जवाब देंहटाएं
  16. Mujhe to lagta hai sab logo ka dimag kharab ho gaya hai. Aap log Gandhi Ji ke dwara kige gaye achche kaam bhi to dekh lijiye.

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. oay gandhi ke dulare tu bata tu hindu hai ya muslim.........

      हटाएं
    2. Teri maa ki choot gandhi ne aisa kya kaam kiya hai jiske liye ws madachowd ko yaad kare sale gaddar madarchowd muslman ke lawde

      हटाएं
  17. गाँधी की माँ मुसलमानो ने चोदी थी ।ये मुसलमानो की नाजायज औलाद है

    जवाब देंहटाएं
  18. to phir ye baat samne kyu nahi aayi.

    जवाब देंहटाएं
  19. mahan sir nathu ram godse...... unhone ak napunsak ka vadh kiyaaaa

    जवाब देंहटाएं
  20. lgta hai lod chandra shekhar ajad, rajguru, sukhdev ko bul gyi... lekin ye log hi sacche deshbakt the

    जवाब देंहटाएं
  21. mai 3rd part ka intzaar kar raha hu.... plz sabhi bhago k link mail kar dijiye.... brahman21@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
  22. mai 3rd part ka intzaar kar raha hu.... plz sabhi bhago k link mail kar dijiye.... brahman21@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
  23. itni gaali hoti hai aap ke comments me kya aaplogo ko nahi lagta hai ki muslmano ka birodh karte huye hum hinduon me se kuch log muslmano ke astar par hi utar ayen hai. kam se kam hamari bhasa to aise honi chayen ki loog hamari batton ko gambhirta se le ya aapne bhi islam kabul kar liya hai, agar nahi to unke jasi galion wali bhasa kyun bool raheo ho...

    जवाब देंहटाएं
  24. Gandhi Nahru Privar ne es desh ko jitna nuksan pahuchaya hai utna to angrejon ne bhi nhi kiya vo bat alg h enke bare me hme jankari hme nhi mi pa rhi hai. Kyoki hm bebkuf log pichhle 60 salon se esi privar ko raj gaddi pr baitate rhe hain. Ab moka h 2014 me khona mt sathi.

    जवाब देंहटाएं
  25. ye sbhi hindu jante hai ki congress aur gandhi ne desh ko brbad kiya,,,,phir bhi hum ikjut kyo nhi hote.....humlog chahenge to bhir se ise hidu rastra ghosit krke nyi sambidhan bna skte hai

    जवाब देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

कुरान और गैर मुस्लमान

इस लेख को लिखने से मेरा किसी भी धर्म का विरोध करने का कोई उद्देश्य नही है। अपितु य ह लेख इस्लाम के प्रचार के लि ए है । कुरान मुसलमानों का मजहबी ग्रन्थ है.मुसलमानों के आलावा इसका ज्ञान गैर मुस्लिमों को भी होना आवश्यक है। ............................................................. मानव एकता और भाईचारे के विपरीत कुरान का मूल तत्व और लक्ष्य इस्लामी एकता व इस्लामी भाईचारा है. गैर मुसलमानों के साथ मित्रता रखना कुरान में मना है. कुरान मुसलमानों को दूसरे धर्मो के विरूद्ध शत्रुता रखने का निर्देश देती है । कुरान के अनुसार जब कभी जिहाद हो ,तब गैर मुस्लिमों को देखते ही मार डालना चाहिए। कुरान में मुसलमानों को केवल मुसलमानों से मित्रता करने का आदेश है। सुरा ३ की आयत ११८ में लिखा है कि, "अपने (मजहब) के लोगो के अतिरिक्त किन्ही भी लोगो से मित्रता मत करो। " लगभग यही बात सुरा ३ कि आयत २७ में भी कही गई है, "इमां वाले मुसलमानों को छोड़कर किसी भी काफिर से मित्रता न करे। " सन १९८४ में हिंदू महासभा के दो कार्यकर्ताओं ने कुरान की २४ आयातों का एक पत्रक छपवाया । उस पत्रक को छपवाने

सनातन धर्म का रक्षक महान सम्राट पुष्यमित्र शुंग

मोर्य वंश के महान सम्राट चन्द्रगुप्त के पोत्र महान अशोक (?) ने कलिंग युद्ध के पश्चात् बौद्ध धर्म अपना लिया। अशोक अगर राजपाठ छोड़कर बौद्ध भिक्षु बनकर धर्म प्रचार में लगता तब वह वास्तव में महान होता । परन्तु अशोक ने एक बौध सम्राट के रूप में लग भाग २० वर्ष तक शासन किया। अहिंसा का पथ अपनाते हुए उसने पूरे शासन तंत्र को बौद्ध धर्म के प्रचार व प्रसार में लगा दिया। अत्यधिक अहिंसा के प्रसार से भारत की वीर भूमि बौद्ध भिक्षुओ व बौद्ध मठों का गढ़ बन गई थी। उससे भी आगे जब मोर्य वंश का नौवा अन्तिम सम्राट व्रहद्रथ मगध की गद्दी पर बैठा ,तब उस समय तक आज का अफगानिस्तान, पंजाब व लगभग पूरा उत्तरी भारत बौद्ध बन चुका था । जब सिकंदर व सैल्युकस जैसे वीर भारत के वीरों से अपना मान मर्दन करा चुके थे, तब उसके लगभग ९० वर्ष पश्चात् जब भारत से बौद्ध धर्म की अहिंसात्मक निति के कारण वीर वृत्ति का लगभग ह्रास हो चुका था, ग्रीकों ने सिन्धु नदी को पार करने का साहस दिखा दिया। सम्राट व्रहद्रथ के शासनकाल में ग्रीक शासक मिनिंदर जिसको बौद्ध साहित्य में मिलिंद कहा गया है ,ने भारत वर्ष पर आक्रमण की योजना बनाई। मिनिंदर ने सबसे प

ये है झांसी की रानी (jhansi ki rani)का असली चित्र.

मित्रो आज १७ जून को झाँसी की रानी लक्ष्मी बाई की पुन्यथिति है। झांसी की रानी लक्ष्मीबाई का यह एकमात्र फोटो है, जिसे कोलकाता में रहने वाले अंग्रेज फोटोग्राफर जॉनस्टोन एंड हॉटमैन द्वारा 1850 में ही खींचा गया था। यह फोटो अहमदाबाद निवासी चित्रकार अमित अंबालाल के संग्रह में मौजूद है। The only photo of Rani Laxmibai of Jhansi, which living in Calcutta in 1850 by the British photographer Ahugoman Jonstone and was pulled. This photo Ahmedabad resident artist Amit Ambalal exists in the collection.