शुक्रवार, 24 अप्रैल 2009

इतिहास बदलना होगा.

अंधियारे से घिरा हुआ अब यह आकाश बदलना होगा।
पीड़ित मानव के मन का अब हर संत्रास बदलना होगा।।
आज देश की सीमाओं के चंहु और तक्षक बैठे हैं ।
खंड-खंड करके खाने को इस भू के भक्षक बैठें हैं।।
जिन कन्धों पर आज देश का भार सोंप निश्चिंत हुए हो।
वे महलों में बनकर अपनी सत्ता के रक्षक बैठे हैं॥
इन्हे जगा दो या कहदो दिल्ली की गद्दी त्यागें।
किसी शिवा को लाकर के अब यह इतिहास बदलना होगा॥
अंधियारे से ...............................................................१ ।
........................................................................................
...........................................................................................
........................................................................................
कण कण की हरियाली देखो धीरे धीरे पीत हो रही।
जन जन के मन की उजयाली तम से है भयभीत हो रही ॥
राम - कृषण - गौतम -राणा की इस पावन धरती पर देखो।
छल-असत्य और पाप के सन्दर्भों की जीत हो रही॥
इस धरती के उजियाले पर अंधकार छाने से पहले।
जन-जन के मन में आ बैठा, हर संत्रास बदलना होगा॥
अंधियारे से घिरा ......................................................५
रचनाकार--shree देवेन्द्र सिंह त्यागी।

3 टिप्‍पणियां:

  1. नमस्कार,
    इसे आप हमारी टिप्पणी समझें या फिर स्वार्थ। यह एक रचनात्मक ब्लाग शब्दकार के लिए किया जा रहा प्रचार है। इस बहाने आपकी लेखन क्षमता से भी परिचित हो सके। हम आपसे आशा करते हैं कि आप इस बात को अन्यथा नहीं लेंगे कि हमने आपकी पोस्ट पर किसी तरह की टिप्पणी नहीं की।
    आपसे अनुरोध है कि आप एक बार रचनात्मक ब्लाग शब्दकार को देखे। यदि आपको ऐसा लगे कि इस ब्लाग में अपनी रचनायें प्रकाशित कर सहयोग प्रदान करना चाहिए तो आप अवश्य ही रचनायें प्रेषित करें। आपके ऐसा करने से हमें असीम प्रसन्नता होगी तथा जो कदम अकेले उठाया है उसे आप सब लोगों का सहयोग मिलने से बल मिलेगा साथ ही हमें भी प्रोत्साहन प्राप्त होगा। रचनायें आप shabdkar@gmail.com पर भेजिएगा।
    सहयोग करने के लिए अग्रिम आभार।
    कुमारेन्द्र सिंह सेंगर
    शब्दकार
    रायटोक्रेट कुमारेन्द्र

    उत्तर देंहटाएं