सोमवार, 7 सितंबर 2009

हम भारतीय, सिकंदर महान? को सिकंदर महान क्यों माने

सिकंदर अपने पिता की मृत्यु के पश्चात् अपने सौतेले व चचेरे भाइयों को कत्ल करने के बाद मेसेडोनिया के सिंहासन पर बैठा था। अपनी महत्वकन्क्षा के कारण वह विश्व विजय को निकला। अपने आसपास के विद्रोहियों का दमन करके उसने इरान पर आक्रमण किया,इरान को जीतने के बाद गोर्दियास को जीता । गोर्दियास को जीतने के बाद टायर को नष्ट कर डाला। बेबीलोन को जीतकर पूरे राज्य में आग लगवा दी। बाद में अफगानिस्तान के क्षेत्र को रोंद्ता हुआ सिन्धु नदी तक चढ़ आया।

सिकंदर को अपनी जीतों से घमंड होने लगा था । वह अपने को इश्वर का अवतार मानने लगा,तथा अपने को पूजा का अधिकारी समझने लगा। परंतु भारत में उसका वो मान मर्दन हुआ जो कि उसकी मौत का कारण बना।

सिन्धु को पार करने के बाद भारतt के तीन छोटे छोटे राज्य थे। १--,ताक्स्शिला जहाँ का राजा अम्भी था। २--पोरस। ३--अम्भिसार ,जो की काश्मीर के चारो और फैला हुआ था। अम्भी का पुरु से पुराना बैर था,इसलिए उसने सिकंदर से हाथ मिला लिया। अम्भिसार ने भी तठस्त रहकर सिकंदर की राह छोड़ दी, परंतु भारतमाता के वीर पुत्र पुरु ने सिकंदर से दो-दो हाथ करने का निर्णय कर लिया। आगे के युद्ध का वर्णन में यूरोपीय इतिहासकारों के वर्णन को ध्यान में रखकर करूंगा। सिकंदर ने आम्भी की साहयता से सिन्धु पर एक स्थायी पुल का निर्माण कर लिया।
प्लुतार्च के अनुसार,"२०,००० पैदल व १५००० घुड़सवार सिकंदर की सेना पुरु की सेना से बहुत अधिक थी,तथा सिकंदर की साहयता आम्भी की सेना ने भी की थी। "

कर्तियास लिखता है की, "सिकंदर झेलम के दूसरी और पड़ाव डाले हुए था। सिकंदर की सेना का एक भाग झेहलम नदी के एक द्वीप में पहुच गया। पुरु के सैनिक भी उस द्वीप में तैरकर पहुच गए। उन्होंने यूनानी सैनिको के अग्रिम दल पर हमला बोल दिया। अनेक यूनानी सैनिको को मार डाला गया। बचे कुचे सैनिक नदी में कूद गए और उसी में डूब गए। "
बाकि बची अपनी सेना के साथ सिकंदर रात में नावों के द्वारा हरनपुर से ६० किलोमीटर ऊपर की और पहुच गया। और वहीं से नदी को पार किया। वहीं पर भयंकर युद्ध हुआ। उस युद्ध में पुरु का बड़ा पुत्र वीरगति को प्राप्त हुआ।

एरियन लिखता है कि,"भारतीय युवराज ने अकेले ही सिकंदर के घेरे में घुसकर सिकंदर को घायल कर दिया और उसके घोडे 'बुसे फेलास 'को मार डाला।"
ये भी कहा जाता है की पुरु के हाथी दल-दल में फंस गए थे,तो कर्तियास लिखता है कि,"इन पशुओं ने घोर आतंक पैदा कर दिया था। उनकी भीषण चीत्कार से सिकंदर के घोडे न केवल डर रहे थे बल्कि बिगड़कर भाग भी रहे थे। ----------------अनेको विजयों के ये शिरोमणि अब ऐसे स्थानों की खोज में लग गए जहाँ इनको शरण मिल सके। सिकंदर ने छोटे शास्त्रों से सुसज्जित सेना को हाथियों से निपटने की आज्ञा दी। इस आक्रमण से चिड़कर हाथियों ने सिकंदर की सेना को अपने पावों में कुचलना शुरू कर दिया।"
वह आगे लिखता है कि,"सर्वाधिक ह्रदयविदारक द्रश्य यह था कि, यह मजबूत कद वाला पशु यूनानी सैनिको को अपनी सूंड सेपकड़ लेता व अपने महावत को सोंप देता और वो उसका सर धड से तुंरत अलग कर देता। --------------इसी प्रकार सारा दिन समाप्त हो जाता,और युद्ध चलता ही रहता। "
इसी प्रकार दियोदोरस लिखता है की,"हाथियों में अपार बल था,और वे अत्यन्त लाभकारी सिद्ध हुए। अपने पैरों के तले उन्होंने बहुत सारे यूनानी सैनिको को चूर-चूर कर दिया।
कहा जाता है की पुरु ने अनाव्यशक रक्तपात रोकने के लिए सिकंदर को अकेले ही निपटने का प्रस्ताव रक्खा था। परन्तु सिकंदर ने भयातुर उस वीर प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया था।
इथोपियाई महाकाव्यों का संपादन करने वाले श्री इ० ए० दब्ल्यु०बैज लिखते है की,"जेहलम के युद्ध में सिकंदर की अश्व सेना का अधिकांश भाग मारा गया। सिकंदर ने अनुभव किया कि यदि में लडाई को आगे जारी रखूँगा,तो पूर्ण रूप से अपना नाश कर लूँगा।अतः उसने युद्ध बंद करने की पुरु से प्रार्थना की। भारतीय परम्परा के अनुसार पुरु ने शत्रु का वद्ध नही किया। इसके पश्चात संधि पर हस्ताक्षर हुए,और सिकंदर ने पुरु को अन्य प्रदेश जीतने में सहायता की"।
बिल्कुल साफ़ है की प्राचीन भारत की रक्षात्मक दिवार से टकराने के बाद सिकंदर का घमंड चूर हो चुका था। उसके सैनिक भी डरकर विद्रोह कर चुके थे । तब सिकंदर ने पुरु से वापस जाने की आज्ञा मांगी। पुरु ने सिकंदर को उस मार्ग से जाने को मना कर दिया जिससे वह आया था। और अपने प्रदेश से दक्खिन की और से जाने का मार्ग दिया।
जिन मार्गो से सिकंदर वापस जा रहा था,उसके सैनिको ने भूख के कारण राहगीरों को लूटना शुरू कर दिया।इसी लूट को भारतीय इतिहास में सिकंदर की दक्खिन की और की विजय लिख दिया। परंतु इसी वापसी में मालवी नामक एक छोटे से भारतीय गणराज्य ने सिकंदर की लूटपाट का विरोध किया।इस लडाई में सिकंदर बुरी तरह घायल हो गया।
प्लुतार्च लिखता है कि,"भारत में सबसे अधिक खुन्कार लड़ाकू जाती मलावी लोगो के द्वारा सिकंदर के टुकड़े टुकड़े होने ही वाले थे,---------------उनकी तलवारे व भाले सिकंदर के कवचों को भेद गए थे।और सिकंदर को बुरी तरह से आहात कर दिया।शत्रु का एक तीर उसका बख्तर पार करके उसकी पसलियों में घुस गया।सिकंदर घुटनों के बल गिर गया। शत्रु उसका शीश उतारने ही वाले थे की प्युसेस्तास व लिम्नेयास आगे आए। किंतु उनमे से एक तो मार दिया गया तथा दूसरा बुरी तरह घायल हो गया।"
इसी भरी markat में सिकंदर की गर्दन पर एक लोहे की lathi का प्रहार हुआ और सिकंदर अचेत हो गया। उसके अन्ग्रक्षक उसी अवस्था में सिकंदर को निकाल ले गए। भारत में सिकंदर का संघर्ष सिकंदर की मोत का कारण बन गया।
अपने देश वापस जाते हुए वह बेबीलोन में रुका। भारत विजय करने में उसका घमंड चूर चूर हो गया। इसी कारण वह अत्यधिक मद्यपान करने लगा,और ज्वर से पीड़ित हो गया। तथा कुछ दिन बाद उसी ज्वर ने उसकी जान ले ली।
स्पष्ट रूप से पता चलता है कि सिकंदर भारत के एक भी राज्य को नही जीत पाया । परंतू पुरु से इतनी मार खाने के बाद भी इतिहास में जोड़ दिया गया कि सिकंदर ने पुरु पर जीत हासिल की।भारत में भी महान राजा पुरु की जीत को पुरु की हार ही बताया जाता है।यूनान सिकंदर को महान कह सकता है लेकिन भारतीय इतिहास में सिकंदर को नही बल्कि उस पुरु को महान लिखना चाहिए जिन्होंने एक विदेशी आक्रान्ता का मानमर्दन किया।

36 टिप्‍पणियां:

  1. aapne jo jaankari yahan par di hai kabile taareef hai.mai bhi aapke is aalekh ko logon ko padhvaunga.aaj se sikandar nahi puru mahan hi gaunga.

    उत्तर देंहटाएं
  2. sarahniiy yogdaan hai aapka ..vandniiy hai PURU ki veerta or sahas.
    badnasiibi hai hamari ki hum apni pahchan se anbhigy hai.

    उत्तर देंहटाएं
  3. apke blog ka yogdaan door door tak mar kar raha hai.sikandar ke bare me esi jaankaari aaj tak maine nahi padhi.padhkar apne desh ke itihaaskaro ko goli maarne ko man karta hai,jo aaj bhi videshiyon ki gulami karte hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे गर्व है की मैं भारतीय हूं|सही इतिहास की जानकारी के लिए धन्यवाद् |

    उत्तर देंहटाएं
  5. bilkul sahi jankari hai, agar or bhi janna chaho to hollywood ki movi sikandar dekho

    उत्तर देंहटाएं
  6. rashmi ji mai aapke blog par kai baar koshis kar chuka hoon lekin pahuh nahi paya.krapya apne blog ka pata de.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपने भारतीय होने पर और भी गर्व हुआ आपकी इस पोस्ट को पढ़ कर.

    उत्तर देंहटाएं
  8. मुझे गर्व है की मैं भारतीय हूं|सही इतिहास की जानकारी के लिए धन्यवाद् |

    उत्तर देंहटाएं
  9. Sabase pahle apko es jankari k liye bahut-bahut Dhanybad.
    Aur us mahan Vir{Puru} ko sat-sat naman.

    उत्तर देंहटाएं
  10. mai chahta hu ki is histori ki baat ko world ke log jaane ki india mein, mahaan sikandar kahe jaane waale byakti ka kya hashra hua
    is jaankaari ke liye aapko tahe dil se dhanyvaad
    from:- Vinod Gupta Parsiya Gkp 9935777621

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. iss main ek adchan hai
      vo adchan hai ki kai videshi log is baat ko manane se inkar kar rahe hai

      हटाएं
    2. aman ji ye aapki galatfahmi hai
      is sachchaai ko videsi log hi maan rahe hain .agar chaaho to hollywood movi alexendar dekh lo jo 2004 me bani thi

      हटाएं
  11. Aap ke gyan ne hame dhanya kardiya !
    shayad ye laine kisi ne aap jaise logon ke liye hi likhi hain !

    Little knowledge is a danger thing !

    उत्तर देंहटाएं
  12. The writter of this Blog has to accept that most part of this blog in not real but gnerated from his own mind... Sabse 1 mistake to ye hi hai k Alexander khud ko bhagwaan nahi manta tha ya apni pooja karwata tha yeh toh Siwah k log usse bhagwan bolne lagge aur uski pooja karne lage..Alexander toh bus apne idol Herculis ki tarah Duniya jeetna chahta tha... ASS HOLE WRITTER GHADDHA .. IS BLOG MAIN MISTAKES KI LIST KAAFI LAMBI HAI YEH TOH SIRF 1 THI..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. विदेश जी आप ग्यानी ही नहीं महाज्ञानी भी हो सकते हैं .वैसे मेरी समझ में नहीं आता कि कुछ लोग अपने भूतकाल के गोरव को जानकर भयानक अलाप क्यों करने लगते है .अरे आपसे तो अच्छे होलिवुड के वो लोग है जिन्होंने सिकंदर को भारत के पुरु से हारकर वापस जाते हुए दिखने का सहस किया है

      हटाएं
    2. Aap sahi kaha rahe hai.par aur alexander ka idol achilles tha

      हटाएं
    3. Vidash ji aapane kbhi sach jananeki koshish ki hai kya, ki sirf aapko jo kuchbhi dikaya jata hai our aap samz jate hai

      हटाएं
    4. Vidash ji aapane kbhi sach jananeki koshish ki hai kya, ki sirf aapko jo kuchbhi dikaya jata hai our aap samz jate hai

      हटाएं
  13. bilkul sahi hai unaan sikandar ban ke bandar aayaa bharat andar di putri kanyadaan me

    उत्तर देंहटाएं
  14. bilkul sahi hai unaan sikandar ban ke bandar aayaa bharat andar di putri kanyadaan me

    उत्तर देंहटाएं
  15. Sir ji please in becharo mein galat jaankari na baatein main bhi ek history teacher hu to kripya aap modern log kitabo aur net se sahi jaankari le aur waise bhi aap k maane na maane se kuch nhi dunya jo maanti hai wahi hai ..aap asohk jaise paapi ko mahan kyu kahte hai ki lakho ko maarkar sadhu ban gya aur akbar ko isliye ki usne raajpoot se saadi krli public ko to aaj kal sabhi murkh bna rhe...ye log to kisi ki bhi jai jai krne lgte hai

    उत्तर देंहटाएं
  16. aur Hollywood movie to spiderman ko hawa mein uda deti hai ye firangi to paisa kamate hai aur aap logo ko murkh bnate hai so..please be alert .ek se bad k ek yodha hue hai yaha bhi aur duniya mein bhi

    उत्तर देंहटाएं
  17. ab thodi jaankari mai aap ko deta hu....Yudh haarne k baad jab Porus Sikander k saamne bandi bna kr laaya gya tab usse poochha gya tere saath kya salookh kiya jaye..Porus bola wahi jo ek Raaja ko doosre Raaja k saath krna chhaye ye sun Sikander khus aur porus ko chhod diya...baaki aap log kisi acche itihaaskar se pta krle aur aisi kisi ki jaankari sun kr jai jai na kre .aur ha Sikander apni bahaduri k wajah se mahaan kahlaaya na ki saadhu giri kr k

    उत्तर देंहटाएं
  18. Link to sources please. If sources are books, their ISBN nos., and if they are Internet links or other things, their links and/or anything that can be accepted as authentic.

    Without these, none of this is valid as long as the works we consider authentic say otherwise. At best, only ONE writer (can't remember name, but his quotes are included in the course book of "Defense & Strategic Studies". has so far produced enough evidence to make the Jhelum victory (?) of Alexander disputable, but couldn't prove he was actually defeated.

    Any debate or discussion based on (questionable) references not backed by authentic evidence can only ridicule the debater.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सिकन्दर के पिता का नाम फिलीप था। 329 ई. पू. में अपनी पिता की मृत्यु के उपरान्त वह सम्राट बना। वह बड़ा शूरवीर और प्रतापी सम्राट था। वह विश्वविजयी बनना चाहता था। सिकन्दर ने सबसे पहले ग्रीक राज्यों को जीता और फिर वह एशिया माइनर (आधुनिक तुर्की) की तरफ बढ़ा। उस क्षेत्र पर उस समय फ़ारस का शासन था। फ़ारसी साम्राज्य मिस्र से लेकर पश्चिमोत्तर भारत तक फैला था। फ़ारस के शाह दारा तृतीय को उसने तीन अलग-अलग युद्धों में पराजित किया। हँलांकि उसकी तथाकथित "विश्व-विजय" फ़ारस विजय से अधिक नहीं थी पर उसे शाह दारा के अलावा अन्य स्थानीय प्रांतपालों से भी युद्ध करना पड़ा था। मिस्र, बैक्ट्रिया, तथा आधुनिक ताज़िकिस्तान में स्थानीय प्रतिरोध का सामना करना पड़ा था। सिकन्दर भारतीय अभियान पर ३२७ ई. पू. में निकला। ३२६ ई. पू. में सिन्धु पार कर वह तक्षशिला पहुँचा।[1] वहाँ के राजा आम्भी ने उसकी अधिनता स्वीकार कर ली। पश्चिमोत्तर प्रदेश के अनेक राजाओं ने तक्षशिला की देखा देखी आत्म समर्पण कर दिया। वहाँ से पुरू के राज्य की तरफ बढ़ा जो झेलम और चेनाब नदी के बीच बसा हुआ था। युद्ध में पुरू पराजित हुआ परन्तु उसकी वीरता से प्रभावित होकर सिकन्दर ने उसे अपना मित्र बनाकर उसे उसका राज्य तथा कुछ नए इलाके दिए। यहाँ से वह व्यास नदी तक पहुँचा, परन्तु वहाँ से उसे वापस लौटना पड़ा। उसके सैनिक मगध के नन्द शासक की विशाल सेना का सामना करने को तैयार न थे। वापसी में उसे अनेक राज्यों (शिवि, क्षुद्रक, मालव इत्यादि) का भीषण प्रतिरोध सहना पड़ा। ३२५ ई. पू. में भारतभुमि छोड़कर सिकन्दर बेबीलोन चला गया।


    उत्तर देंहटाएं
  20. Dear sir you are right but the main problem of our country is we don't know our unlimited power which is hidden in our vedic knowledge because know one want to get vedic know by reading Veda,Gita,Gayatri mantra etc..So we request all to read Gita,Gayatri Mantra and Veda and see and feel how powerful we are.

    उत्तर देंहटाएं
  21. i did'nt know that that's damn awesome info.... thnkeww duude...

    उत्तर देंहटाएं
  22. Good knowledge about Sikandar mahan .... thanks brother...Siddharth

    उत्तर देंहटाएं
  23. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  24. Abe dil ko tasalli dene k liye ye fake history mat banao. Agar fir bhi na maano to khush raho. Ha Ha Ha.

    उत्तर देंहटाएं

  25. sikandar ki kahani – सिकंदर जब भारत लौटा तो एक फ़कीर से मिलने गया तो सिकंदर को आते देख फ़कीर हंसने लगा इस पर सिकंदर ने ने मन में किया कि ये तो मेरा अपमान है और फ़कीर से कहा “या तो तुम मुझे जानते नहीं हो या फिर तुम्हारी मौत आई है ” जानते हो मैं कौन हूँ | मैं हूँ सिकंदर महान।इस पर फ़कीर और भी जोर जोर से हंसने लगा |उसने सिकंदर से कहा मुझे तो तुम में कोई महानता नजर नहीं आती मैं तो तुम्हे बड़ा दीन और दरिद्र देखता हूँ तो सिकंदर ने उस से कहा तुम पागल हो गये हो मैंने पूरी दुनिया को जीत लिया है तो इस पर उस फ़कीर ने कहा ऐसा कुछ नहीं है तुम अभी भी साधारण ही हो फिर भी तुम कहते तो मैं तुमसे एक बात पूछता हूँ कि मान लो तुम किसी रेगिस्तान मे फंस गये और दूर दूर तक तुम्हारे आस पास कोई पानी का स्त्रोत नहीं है और कोई भी हरियाली नहीं है जन्हा तुम पानी खोज सको तो तुम एक गिलास पानी के लिए इस राज्य में से क्या दे दोगे।सिकंदर ने कुछ देर सोच विचार किया और उसके बाद बोला कि मैं अपना आधा राज्य दे दूंगा तो इस पर फ़कीर ने कहा अगर मैं आधे राज्य के लिए न मानू तो सिकंदर ने कहा इतनी बुरी हालत में तो मैं अपना पूरा राज्य दे दूंगा | फ़कीर फिर हंसने लगा और बोला कि तेरे राज्य का कुल मूल्य है ” बस एक गिलास पानी ” और तू ऐसे ही घमंड से चूर हुआ जा रहा है | वक़्त पड़ जाये तो एक गिलास पानी के लिए भी तेरा राज्य काफी नहीं होगा फिर रेगिस्तान में चिल्लाना खूब महान सिकंदर महान सिकंदर रेगिस्तान में कोई नहीं सुनेगा सारी महानता बस एक भ्रम है |

    उत्तर देंहटाएं