शनिवार, 11 दिसंबर 2010

साम्यवादी क्रान्ति के सूत्रधार लेनिन भी वीर सावरकर के घोर प्रशंसक थे.






भारत की संसद में जब वीर सावरकर के चित्र की प्रतिस्थापना की गयी तो उस समय के सारे कोंग्रेसी सांसद सोनिया मैनो के नेर्तत्व में तथा सारे कम्युनिष्ट सांसद समारोह का बहिष्कार करके चले गए थे। केवल मात्र सोमनाथ चटर्जी ही राजग के सांसदों के साथ संसद में उपस्थित थे।

वीर सावरकर मात्र एक सशस्त्र क्रांतिकारी ही नहीं वरन एक युगद्रष्टा थे। युगद्रष्टा के साथ साथ वे एक राष्ट्र स्रष्टा भी थे। वे विश्व क्रांतिकारिता के सूत्रधार और व्यवस्थापक भी थे। उनकी वीरता,धीरता व पांडित्य और कुशल नेत्रत्व को देखकर पूरा विश्व चकित था। साम्यवादी क्रांति के सूत्रधार लेनिन भी वीर सावरकर की विलक्षणता के अत्यधिक प्रभावित थे।

जब रूस के क्रांति की प्रष्ट भूमि तैयार हो रही थी,तब लेनिन रूस से जाकर वीर सावरकर के पास जाकर इंग्लेंड में इण्डिया हाउस में छिपे थे।लेनिन अपने अज्ञात वास में वीर सावरकर से रोज घंटों भावी अर्थव्यवस्था पर विचार-विमर्श करते थे। रुसी क्रान्ति सफल हो जाने के पश्चात लेनिन ने अपने प्रथम बजट में वीर सावरकर का आदर सहित उल्लेख किया। उसके पश्चात लेनिन सावरकर से तीन बार और मिले। दोनों के बीच वैचारिक सम्बन्ध लम्बे समय तक रहा।

रुसी क्रान्ति अभिलेखों में सावरकर को विश्व का महानतम क्रांतिकारी कहा गया है। लेकिन कम्युनिष्ट अपने कुलगुरु लेनिन पर वीर सावरकर द्वारा किये गए उपकार को बिलकुल भूल चुके हैं, इसे इन लोगों की सावरकर के प्रति क्रत्य्घ्नता की कहा जाएगा।

7 टिप्‍पणियां:

  1. Naveen Tyagi ji na to aap veer savarkar ke baare men Janate hain aur Lenin ke baare men Janane ka savaal hi paida nahi hota. Sahi baat to aap veer savarkar ke saath dhokha kar rahe hain. aap hinu Mahasabha ke bade bhari neta hain. itana bada jhoont bolate hue ek baar bhi nahi socha. Ya to aap sabhi hinduon ko Moorkh samajhate hain ki vo aapake jhoont aur bebuniyadi baaton par yakeen kar lenge. sabhi log Janate hain ki veer savarkar aur lenin ki vichardharayen ek doosare ke vipreep theen/ hain. ek dhur dakshinvanthi doosara kammunist. ek ka naara hinduon ko dharam ke naam par sangathit kar anya dharamon ke longo ke khilaf nafarat ailana. Doosare ka nara tha Duniya ke Majdooro ek ho. aapane itana bada jhoonth bakhan karane ki jurrat ki? Duniyan ko kahan le jaana chahate hain. Bhai aapaki baat sahi hai to aapane samarthakon ko Lenin ka sahitaya Pathane ke liye nirdesh den. aapako jhoonth mubarak ho.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. aaj ke leninwaadi maha haraamjaade hain...aur maha hindu virodhi jaise ki tum ho....... tum jaise kutton ki vajah se aaj Bhartiya hindutwa sanskirti ki vinash ki or chali gayi hai...are kutton kya hamare desh me mahapurushon ki kami hai....jo tumhe lenin ko manne ki aavashyakta padi???? kisi acchhe insaan ko manna acchhi baat hai....lekin hame iski jarurat hi nahi hai...kyonki ham is maamle me bahut dhani hain..... aur tum jaise communiston ki asliyat to sabko malum hai.....

      हटाएं
    2. tum jaise hijde na to khud kuchh kar sakte hain....na hi dusre krantikariyon ko karne dete hain...krantikariyon ko aatankwaadi bolte hain....yuddh me china ka sath diya tha tum jaise kutton ne...tumse bada harami kaun hoga???

      हटाएं
  2. वोलाडियर उर्फ़ ब्लादिमीर लेनिन ने परतंत्रता की बेङियों में जकङे रसिया में जिस तरह से क्रान्ति का सूत्रपात किया, उससे सारा विश्व चकित रह गया.. हालांकि इनके बारे में मुझे ज़्यादा पढ़ने को नहीं मिला, पर अपनी नीतियों और कौशल से इन्होंने अपने शोषित और लगभग म्रतप्राय समाज को उबार लिया.. कार्ल माकर्स जैसे गुरू से प्रेरणा पाकर इन्होंने समाजवाद के सिद्धान्त को सारे विश्व में फ़ैलाया और जातिवाद और वर्णवाद की खायी में धंसते विश्व को नया सिद्धान्त दिया.... काश, हमारे देश के महान रत्न... शहीदे आज़म भगतसिंह को भी फ़ांसी से बचा लिया जाता, तो भारत के विकास की एक अनोखी तस्वीर बनती.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. islamic nazi falg

    1943 में, अमीन अल हुसैनी नाजी मुसलमानों के Hanzar डिवीजन के प्रमुख हैं. यह हिटलर का सबसे बड़ा एसएस प्रभाग था और Serbians, जिप्सी, और यहूदियों के नरसंहार के लिए जिम्मेदार था. यह सर्बिया / / बोस्निया Hercegovina क्रोएशिया में आज अशांति की जड़ में है.

    उत्तर देंहटाएं